सावन के महीने में करें ये उपाय, दूर हो जाएंगे कुंडली के दोष

सावन शिवजी का विशेष महीना होता है। धार्मिक कार्यों के लिए सावन महीना बहुत ही खास माना गया है.

यही कारण है कि भगवान शिव भी भक्तों की पूजा से आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं और इस महीने में किए जाने वाले टोटके भी आसीन से फलीभूत हो जाते है.

देवो के देव महादेव के इस विशेष महीने में आपको अपनी कुंडली के दोष को दूर करने के उपाय जरूर आजमाने चाहिए.

बता दें क‍ि सावन का पहला सोमवार 6 जुलाई को है और आखिरी सोमवार 3 अगस्त को है. इस तरह साल 2020 में सावन का महीना 29 द‍िन का रहेग ऐसे में पहले और आखिरी सोमवार को कुंडली दोष दूर करने के उपाय जरूर आजमाने चाहिए.

इन उपायों से दूर हो जाएगा कुंडली का हर दोष

यदि आपकी कुंडली में चंद्रमा नीच हो या उससे जुड़े कोई भी दोष हैं तो सावन में प्रतिदिन शिवलिंग पर दूग्धाभिषेक करें. इस दूध में एक भाग दूध और तीन भाग जल होना चाहिए. साथ ही एक बूंद गंगाजल मिला लें. घर पर ही मिट्टी के शिवलिंग को बना कर दूग्धाभिषेक करें. इससे आपके चंद्र से जुड़े हर दोष दूर हो जाएंगे.

यदि वैवाहिक जीवन में कठिनाई आ रही है या विवाह में अड़चन बनी हो तो इसका मतलब है आपकी कुंडली में गुरु दोष है. इसे दूर करने के लिए आपको सावन के महीने में हर सोमवार और गुरुवार के दिन दूध मिश्रित जल में हल्दी मिलाकर भगवान शिव को अर्पित करना चाहिए. इससे कुंडली से गुरु दोष खत्म हो जाएगा.

यदि व्यापार में घाटा हो रहा हो या नौकरी पर संकट बना हो तो आपको वैसे तो सावन के हर सोमवार को या कम से कम पहले या आखिरी सोमवार के दिन शिवलिंग पर विधारा की जड़ का रस चढ़ाएं. ऐसा करने से कुंडली पर बुध का बुरा प्रभाव जल्द ही समाप्त हो जाता है.

यदि आर्थिक संकट हो अथवा धन से जुड़ी परेशानी बनी रहती है तो शुक्र ग्रह का उपाय करना चाहिए. शुक्र ग्रह के दोष को खत्म करने के लिए सावन के हर सोमवार को शिवलिंग पर घी चढ़ाएं. ऐसा करने से घर में धन और वैभव आता है.

कुंडली में शनि दोष को खत्म करने के लिए सावन में पहले या आखिरी सोमविर के दिन शिवलिंग पर दही का लेप कर जलाभिषेक करना चाहिए. इससे जीवन में आने वाली कई बड़ी परेशानियां दूर हो जाती हैं और शनि की साढ़े साती का प्रभाव कम होता है.

सावन माह में किए जाने वाले ये टोटके बेहद कारगर हैं. इसे सच्चे मन से करें और एक बार में एक ही उपाय अपनाएं.