चार धाम यात्रा को लेकर देवस्थानम बोर्ड ने जारी किए ई पास, जानें तीर्थ यात्रियों की संख्या

चार धाम यात्रा को लेकर गुरुवार को 600 लोगों ने देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण कराया. सबसे अधिक श्री केदारनाथ धाम के लिए 280 लोगों ने पंजीकरण कराया. श्री बदरीनाथ धाम के लिए 216, श्री गंगोत्री धाम में 54, श्री यमुनोत्री धाम के लिए 48 लोगों ने पंजीकरण कराया.

दूसरी ओर, जिला प्रशासन ने सख्ती बनाई हुई है. किसी भी तीर्थ यात्री को बिना पंजीकरण के लिए दर्शन करने की अनुमति नहीं दी जा रही है. साथ ही, सोशल डिस्टेंसिंग का भी विशेष ख्याल रखा जा रहा है.

उत्तरकाशी. देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के विरोध में तीर्थपुरोहितों का धरना आठवें दीन भी जारी रहा. साथ ही कोरोना महामारी के बीच चारधाम यात्रा शुरू करने के निर्णय का विरोध जताया. उन्होंने शीघ्र ही मांग पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी.

गुरूवार को मुखबा गांव व गंगोत्री धाम में तीर्थपुरोहितों का धरना आठवें दिन भी जारी रहा है. यहां धरने पर बैठ तीर्थपुरोहितों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. साथ ही देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को धार्मिक परंपराओं व पुरोहित समाज के हक हकूकों के लिए खतरा बताते हुए इसे निरस्त करने की मांग की.

उन्होंने कहा कि तीर्थयात्रियों की आवाजाही से धाम व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण फैल सकता है. इसलिए हालात की गंभीरता को देखते हुए सुबह व शाम की पूजा के बाद मंदिर को बंद रखा जाएगा.

साथ ही यात्रियों को मंदिर में दर्शन व पूजा अर्चना की अनुमति भी नहीं दी जाएगी. इस मौके पर सुधांशु सेमवाल, राकेश सेमवाल, राजेश सेमवाल, प्रेमवल्लभ सेमवाल, गोवर्धन सेमवाल आदि पुरोहित शामिल रहे.