राजीव गांधी फॉउंडेशन को लेकर जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी से पूछे ये सवाल

शनिवार को भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्‍होंने राजीव गांधी फॉउंडेशन को लेकर कांग्रेस से दस तीखे सवाल किए. जेपी नड्डा ने कहा कि 130 करोड़ देशवासी जानना चाहते हैं कि कांग्रेस ने सत्ता में रहते हुए क्या-क्या काम किया. उन्‍होंने कहा, ‘मैं सोनिया जी को ये कहना चाहता हूं कि कोरोना के कारण या चीन की स्थिति के कारण मूल प्रश्नों से बचने का प्रयास न करें.’ जेपी नड्डा ने कहा कि भारत की फौज देश की और हमारी सीमाओं की रक्षा करने में सक्षम है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश सुरक्षित है.

नड्डा ने कहा कि यूपीए शासन में कई केंद्रीय मंत्रालयों, सेल, गेल, एसबीआई, अन्य पर राजीव गांधी फाउंडेशन को पैसा देने के लिए दबाव बनाया गया. देश की जनता इसका कारण जानना चाहती है. पीएम नेशनल रिलीफ फंड जो लोगों की सेवा और उनको राहत पहुंचाने के लिए है, उससे 2005-08 तक राजीव गांधी फाउंडेशन को पैसा क्यों गया? हमारे देश की जनता इसका जवाब जानना चाहती है. उन्‍होंने कहा कि कुछ दिन पहले ट्वीट करके राजीव गांधी फाउंडेशन पर प्रश्न उठाए थे, आज पी चिदंबरम कहते हैं कि फाउंडेशन पैसे लौटा देगा.

जेपी नड्डा के सवाल
जेपी नड्डा ने कहा कि आरसीईपी का हिस्सा बनने की क्या जरूरत थी? उन्‍होंने कहा कि आरसीईपी भारतीय किसानों, एमएसएमई क्षेत्र और कृषि के हित में नहीं है इस वजह से पीएम मोदी इसमें शामिल नहीं हुए.

जेपी नड्डा ने सवाल पूछा कि भारत के लोग जानना चाहते हैं कि CAG ऑडिटिंग के लिए राजीव गांधी फाउंडेशन के अकाउंट्स ने मना क्यों किया? RTI इसपर लागू क्‍यों नहीं थी?

चीन के साथ भारत का व्यापार घाटा 2004 में 1.1 अरब डॉलर का था जो बढ़कर 2013-14 में 36.2 अरब डॉलर हो गया, क्या इसके एवज में कांग्रेस को लाभ मिला?