अब कांग्रेस को घेरने के लिए भाजपा को मिला ‘चीन का डोनेशन हथियार’

चीन के भारत पर हमले को लेकर पिछले कई दिनों से कांग्रेस मोदी सरकार पर जबर्दस्त प्रहार कर रही थी. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत कई दिग्गज नेता भाजपा सरकार से चीन की घुसपैठ को लेकर कई तीखे जवाब मांग रहे थे. चीन मुद्दे पर कांग्रेसियों के आरोपों को लेकर मोदी सरकार कहीं न कहीं बैकफुट पर आती जा रही थी. लेकिन अब भाजपा को उसी चीन से ही एक ऐसा हथियार मिल गया है जिसे वह गुरुवार से ही कांग्रेस को घेरने में जोरदार तरीके से जुटी हुई है. मामला इस बार चीन से मिले डोनेशन यानी फंड को लेकर है.

भारतीय जनता पार्टी का आरोप है कि मनमोहन सिंह के यूपीए सरकार के समय चीन ने प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड का पैसा राजीव गांधी फाउंडेशन को दिया गया था. उस समय सोनिया गांधी राजीव गांधी फाउंडेशन की अध्यक्ष थीं. बता दें कि अभी मार्च में कोरोना महामारी जब देश में शुरू हुई थी तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘पीएम केयर्स फंड’ बनाया था. इस पीएम केयर्स फंड में कोरोना महामारी लेकर देश भर से लोगों ने डोनेट किया था. राजनीति, फिल्म, और उद्योग से जुड़े सैकड़ों लोगों ने अच्छी खासी रकम इस फंड में जमा करवाई थी.‌ पीएम मोदी के पीएम केयर्स फंड को लेकर राहुल गांधी ने सवाल उठाए थे और कहा था कि ‘प्रधानमंत्री राहत कोष’ पहले से ही मौजूद है तब मोदी को पीएम मोदी को एक नया फंड बनाने की क्या जरूरत थी. यही नहीं कांग्रेस के कई नेता इस फंड में महामारी के नाम पर जमा हुए अरबों रुपए का हिसाब भी प्रधानमंत्री से मांग रहे थे.

भाजपा इस मामले को पूरे देश भर में तूल देने में जुटी हुई है

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा इस मामले को देशभर में तूल दे रहे हैं. गुरुवार को नड्डा ने बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर चीन से फंड लेने के आरोप लगाए हैं। यही नहीं सरकार को भी भाजपा अध्यक्ष ने एक बार फिर चीन से मिले डोनेट को लेकर कांग्रेस पर दोबारा हमला बोला.‌ जेपी नड्डा ने कहा कि भारत के लोगों ने जरूरतमंदों की मदद करने के लिए अपनी मेहनत की कमाई को प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड में दान कर दिया गया. नड्डा ने आगे कहा कि कांग्रेस का देश के साथ एक धोखा है. कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए नड्डा ने कहा पैसे के लिए एक गांधी परिवार की भूख ने देश को बर्बाद किया। इसके लिए कांग्रेस को देश से माफी मांगनी चाहिए. इसी मामले में उसके बाद केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी गांधी परिवार पर हमला बोला.

रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन ने 2005-06 में तीन लाख डॉलर का डोनेशन दिया था। उन्होंने कांग्रेस से सवाल किया कि यह रुपए किन शर्तों पर लिए गए और इन रुपयों का क्या किया गया. यही नहीं शुक्रवार सुबह से ही भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा न्यूज चैनलों में आकर कांग्रेस को चीन से मिले डोनेशन पर कई गंभीर आरोप लगाए. पात्रा ने कहा कि कहा कि जहां कहीं भी भ्रष्टाचार हुआ है, उसकी जांच जरूर होगी. उन्होंने कहा कि जहां भी भ्रष्टाचार का नाम आता है, वहां कांग्रेस का नाम जरूर होता है.


कांग्रेस और चीन के बीच संबंधों की जांच होनी चाहिए
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अगर यह मान भी लिया जाय कि राजीव गांधी फाउंडेशन एक शैक्षणिक, सांस्कृतिक, और सामाजिक संगठन है, तब भी सरकार को यह बताना होता है कि आपने पैसा चीन एम्बेसी से क्यों लिया. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन ने न सिर्फ पैसे लिया, बल्कि कानूनों का उल्लंघन भी किया है. ऐसे में भाजपा जानना चाहती है आखिर कांग्रेस और चीन में क्या पक रहा था.‌

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस और चीन के बीच संबंधों की जांच होनी चाहिए. भाजपा के आरोपों पर कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह आरोप भी लगाया कि चीन को जवाब देने के बजाय सरकार विपक्ष पर हमला करने में व्यस्त है। सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि चीनी हमले का जवाब देने के बजाय हमारी सेना के मनोबल को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है और हर मामले को भटकाने का प्रयास किया जा रहा है। आपको बता दें कि कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी, राजीव गांधी फाउंडेशन की चेयरपर्सन हैं। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी इस बोर्ड के सदस्य हैं.