पुलवामा में आतंकी हमला, पुलिस व सीआरपीएफ की टीम को बनाया निशाना-सीआरपीएफ का एक जवान शहीद

जम्‍मू एवं कश्‍मीर के पुलवामा में एक बार फिर आतंकियों ने हमला किया है. उनके निशाने पर पुलिस व केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की ज्‍वाइंट टीम थी. आतंकियों के हमले में दो जवान घायल हो गए हैं. इस घटना के बाद इलाके को चारों तरफ से घेर लिया गया है और आतंकियों की तलाश की जा रही है.

इससे पहले बुधवार को जम्मू-कश्मीर के गांदरबल जिले के पंडाच में सीमा सुरक्षा बल पर आतंकवादी हमला हुआ था, जिसें 2 जवान शहीद हो गए. आतंकवादियों ने उनके हथियार भी लूट लिए थे. वे ड्यूटी पर थे और पास की दुकान से सामान खरीदने गए थे, जब बाइक सवार आतंकियों ने उन पर हमला कर दिया था. इनमें से एक जवान की मौके पर ही जान चली गई थी, जबकि दूसरे ने अस्‍पताल में दम तोड़ दिया.

जम्‍मू एवं कश्‍मीर के कुछ इलाकों में पिछले दिनों आतंकी गतिविधियां बढ़ी हैं, जिसके बाद सुरक्षा बलों की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की जा रही है. सुरक्षा बलों को पिछले दिनों उस वक्‍त बड़ी कामयाबी मिली थी, जब उन्‍होंने अवंतीपोरा में एक मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर रियाज नाइकू को मार गिराया था. नाइकू घाटी में 2014 से ही सक्रिय था और वह करीब 20 लोगों की हत्या में भी शामिल था.

इस बीच सुरक्षा बलों ने जम्‍मू एवं कश्‍मीर के कुपवाड़ा जिले से तीन आतंकियों को गिरफ्तार किया.वे हाल ही में आतंकी संगठन लश्‍कर-ए-तैयबा से जुड़े थे. इनमें से दो की पहचान जाकिर अहमद बट और आबिद हुसैन वानी हैं. जम्मू कश्‍मीर पुलिस के अनुसार, आतंकियों के पास से विस्‍फोटक, हथियार आदि बरामद किए गए हैं.

यहां उल्‍लेखनीय है कि जम्‍मू कश्‍मीर के पुलवामा में ही 14 फरवरी, 2019 को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला हुआ था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे. आत्‍मघाती हमलावर आदिल अहमद डार ने सुरक्षा बलों पर हमला किया था. इस हमले की जिम्‍मेदारी पाकिस्‍तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद ने ली थी. इसके बाद 26 फरवरी को भारत ने पाकिस्‍तान के बालाकोट में एयर स्‍ट्राइक कर आतंकियों के ठिकाने तबाह कर दिए थे.