एक्पायरी डेट के बाद भी कितने असरदार होते हैं सैनेटाइजर, जानिए

जब हम कोई सामान खरीदते हैं, सबसे पहले उसके ऊपर लिखी एक्सपायरी डेट देखते हैं. लेकिन सामान एक्सपायरी डेट तक ही सुरक्षित हो, यह जरूरी नहीं है. कई चीजें ऐसी भी हैं जो एक्सपायरी के बाद भी काम करती हैं. इनमें से एक चीज हैंड सैनेटाइजर्स भी हैं.

कोरोना वायरस आने के बाद सैनेटाइजर्स की मांग में काफी इजाफा हुआ है. हालात तो ऐसे बने है कि लोग सैनेटाइजर्स के लिए घंटों लाइन में भी लगने को तैयार हैं. सैनेटाइजर का उपयोग करने से उसकी मांग अचानक बढ़ गई. जिसके चलते सरकार को इसे आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में डालना पड़ा और उसे इसकी जमाखोरी के खिलाफ सख्ती करनी पड़ी.

लोग भारी संख्या में हैंड सैनेटाइजर खरीदने लगे. उन्हें लगता है कि ये दी गई एक्सपायरी के बाद काम नहीं करेगा. लेकिन ये सच नहीं हैं. हैंड सैनेटाइजर को असरदार उसमें मिली अलकोहल की मात्रा बनाती है। इसकी वजह से जर्म्स मरते हैं. ये कभी एक्सपायर नहीं होते. ये हमेशा काम करते हैं.

हर दवा की तरह सैनेटाइजर पर भी एक्सपायरी डेट लिखी रहती है. लेकिन सच तो ये है कि ये कभी एक्सपायर हीं होते. एक्सपायर डेट लिखने की वजह अलकोहल की मात्रा है. दरअसल, सैनेटाइजर जब बनता है तो इसमें 95 प्रतिशत अलकोहल की मात्रा होती है. लेकिन जब लोग इसे इस्तेमाल करते हैं तो कई बार वे ढक्कन नहीं लगते, कई बार लोग बोतल को हल्के से ही बंद कर देते हैं.

ऐसे में अलकोहल धीरे धीरे उड़ने लगता है और कुछ समय बाद इसमें अलकोहल की मात्रा कम होने लगती है और यह कारगर नहीं होता. इसलिए कंपनियाँ इसके उपर एक्पायरी डेट लिख देती हैं. लेकिन अगर आप इसे अच्छे से बंद कर के रखें तो ये कभी खराब नहीं होगा.