उत्तराखंड में मिले 14 और कोरोना संक्रमित मामले, प्रदेश में 146 हुई संक्रमितों की संख्या

गुरुवार को उत्तराखंड में 14 कोरोना संक्रमित मामले सामने आए है. जिसके बाद अब राज्य में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 146 हो गई है. वहीं इनमें से 54 मरीज ठीक हो चुके हैं. अपर सचिव युगल किशोर पंत ने आज आए 16 नए मामलों की पुष्टि की है. इनमें से तीन उत्तरकाशी,दो हरिद्वार, एक अल्मोड़ा, चार बागेश्वर, दो ऊधमिसंहनगर, तीन नैनीताल और एक देहरादून में सामने आया है.

जाखणीधार ब्लॉक के ढुंग में एक युवक में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने से पूरे ढुंगमंदार क्षेत्र में दहशत फैल गई है. कस्बे के बाजार बंद हो गए. प्रशासन ने पूरे गांव को सैनिटाइज कराया है. ढुंगमंदार पट्टी में अभी तक बाहरी राज्यों से करीब चार सौ प्रवासी पहुंचे हैं. इनमें से कई रेड जोन से आए हैं. ग्राम पंचायतों ने उन्हें गांव में क्वारंटीन किया हुआ है. मुंबई से आए युवक के कोरोना पॉजिटिव आने से लोग डरे हुए हैं. बृहस्पतिवार सुबह 11 बजे प्रशासन की टीम ने युवक को गांव से जिला मुख्यालय में बनाए गए कोविड-19 के केयर सेंटर में भर्ती करा दिया है.

लेकिन क्वारंटीन में उसके साथ रहे अन्य आठ लोग दहशत में हैं. राजस्व उप निरीक्षक अनिल थपलियाल, प्रवीन रावत ने क्वारंटीन सेंटर से गांव को जाने रास्ते को सील कराया है. ग्रामीणों को बिना किसी काम के घर से बाहर न निकलने को कहा है. अपर जिलाधिकारी शिवचरण द्विवेदी ने बताया कि जिन गांवों में कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, सभी को सैनिटाइज कराया जा रहा है.

पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी ने रेड जोन से आने वालों वालों को इंस्टीट्यूट (संस्थागत) क्वारंटीन करने के निर्देश दिए है. बृहस्पतिवार को मुंबई से हरिद्वार आए 1152 प्रवासियों को इंस्टीट्यूट क्वारंटीन किया गया है.

पुलिस महानिदेशक रतूड़ी बृहस्पतिवार को पुलिस कप्तानों, सेनानायकों और परिक्षेत्र प्रभारियों के साथ वीडियो कॉन्फेंसिंग कर कोरोना वायरस से बचाव की तैयारियों और लॉकडाउन की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे. डीजी अपराध अशोक कुमार ने निर्देश दिए कि लॉकडाउन चार के नियमों और निर्देशों का अनुपालन्र विनम्रता और दृढ़ता के साथ कराना है. होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए. क्वारंटीन उल्लंघन के संबंध में डायल 112 की शिकायतों पर तुरंत कार्रवाई की जाए. इसके अलावा डायल 112 से प्राप्त घरेलू हिंसा से संबंधित शिकायतों को गंभीरता से लें.

सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने वालों, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने वालों को किसी तरह की छूट ना दी जाए. पुलिसकर्मियों को समय-समय पर प्रशिक्षित करने और संक्रमण से बचाव हेतु उन्हें डबल प्रोटेक्शन दिया जाए. डीजी ने कोरोना ड्यूटी में नियुक्त पुलिसकर्मी तथा उल्लेखनीय कार्य करने वाले जनता के एक व्यक्ति को कोरोना वॉरियर्स के रूप में प्रतिदिन सम्मानित करने के निर्देश दिए. वीडियो कॉन्फेंसिंग में अपर पुलिस महानिदेशक अभिसूचना वी विनय कुमार, पुलिस महानिरीक्षक अभिनव कुमार, अमित सिन्हा, संजय गुंज्याल, एपी अंशुमान, डीआईजी एसटीएफ रिधिम अग्रवाल, मुख्तार मोहसिन, एसपी रेलवे मंजूनाथ टीसी आदि मौजूद रहे.