सीबीएसई बोर्ड एग्जाम: छात्रों को एग्जाम के दौरान फॉलो करने होंगे ये दिशा निर्देश

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की तरफ से सीबीएसई 10वीं और 12वीं की बची हुई परीक्षाओं की डेट शीट जारी कर दी गई है. मानव संसाधन विकास मंत्री ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. इसके साथ ही कोरोना संकट के दौरान बची हुई परीक्षाओं को देने के लिए छात्रों को कुछ दिशा-निर्देश दिए गए हैं. जो उन्हें फॉलो करने होंगे.

छात्रों को एग्जाम के दौरान फॉलो करने होंगे ये 12 दिशा निर्देश….
1. सभी छात्रों को एग्जाम के दौरान एक बोतल में हैंड सैनिटाइजर लेकर आना होगा.
2. सभी छात्रों के लिए एग्जाम के दौरान मुंह पर कपड़ा या मास्क लगाना अनिवार्य होगा.
3. सभी छात्रों को एग्जाम के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा.
4. सभी मां बाप को अपने बच्चों को संक्रमण को फैलने से रोकने के नियमों के बारे में बताना होगा.
5. माता पिता को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनका बच्चा बीमार ना हो. उसका ध्यान रखें.
6. एग्जाम के दौरान सभी छात्रों को नियमों का पालन करना होगा.
7. एग्जाम के दौरान सभी छात्रों को एडमिट कार्ड पर लिखे सभी नियमों का पालन करना होगा.
8. सभी छात्रों को डेट शीट और एडमिट कार्ड में टाइम लिखा हुआ दिया है. उसके मुताबिक सेंटर पर पहुंचे.
9. एग्जाम देने पहुंचे सभी छात्रों को आंसर शीट सुबह 10 बजे से दे दी जाएगी.
10. इसके बाद प्रश्‍न पत्र 10 बजकर 15 मिनट पर दिया जाएगा.
11. सुबह 10:15 बजे से 10:30 तक स्‍टूडेंट्स अपना प्रश्‍न पत्र पढ़ेंगे.
12 . सभी छात्रों को 10 बजकर 30 मिनट से उत्तर पुस्तिका में लिखने शुरू कर देना होगा.

केंद्रीय मानव संसाधन और विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट किया. ट्वीट कर लिखा कि नॉर्थ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट और दिल्ली में पढ़ने वाले बोर्ड के 10 वीं कक्षा के प्रिय छात्रों यहां आपके बोर्ड परीक्षा की डेट शीट है..ऑल द बेस्ट.

उन्होंने माध्यमिक स्कूल परीक्षाओं के लिए डेट-शीट साझा करते हुए लिखा कि कक्षा 10 की परीक्षाएं चार तिथियों पर होंगी.1 जुलाई से शुरू होगी. मानव संसाधन विकास मंत्री ने भी शुभकामनाएं देते हुए छात्रों के साथ वरिष्ठ माध्यमिक परीक्षाओं की डेट-शीट साझा की.

वहीं 12 वीं कक्षा का भौतिक विज्ञान का पेपर 4 जुलाई को और 6 जुलाई को रसायन विज्ञान का पेपर होगा. ये परीक्षा केवल उत्तर पूर्वी दिल्ली के छात्रों के लिए है.

उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के कारण परीक्षा स्थगित कर दी गई थी. छात्रों को परीक्षा के दौरान सख्ती से पालन करने के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश प्रदान किए हैं.