अमेरिका: व्हाइट हाउस कोरोना टास्क फोर्स के 3 कर्मचारी क्वारंटाइन में गए, संक्रमितों के संपर्क में आए थे

वाशिंगटन|…. कोरोना वायरस को लेकर व्हाइट हाउस में गठित टास्क फोर्स के तीन कर्मचारी क्वारंटाइन में चले गए हैं. ये तीनों कर्मचारी कोरोना से संक्रमितों के संपर्क में आए थे, जिसके बाद इन्होंने क्वारंटाइन में जाने का फैसला किया. एसोसिएट प्रेस ने इस बारे में जानकारी दी है.

अमेरिका में सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के डायरेक्टर डॉ रॉबर्ट रेडफिल्ड भी अगले दो हफ्तों तक टेलीफोन के जरिए अपने लोगों से संपर्क में रहेंगे और काम करते रहेंगे. जानकारी मिली है कि पिछले दिनों वो एक संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए थे.

हालांकि इसे लो रिस्क एक्सपोजर कहा जा रहा है. शनिवार की शाम को उन्होंने कहा कि वो अच्छा महसूस कर रहे हैं और उनमें वायरस संक्रमण के कोई लक्षण नहीं हैं.

अमेरका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की तरफ से कहा गया है कि एफडीए के कमिश्नर स्टेफन हैन भी अगले दो हफ्तों के लिए सेल्फ क्वारंटाइन रहेंगे. पिछले दिनों वो कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आए थे. हालांकि वो कोरोना टेस्ट में नेगेटिव पाए गए हैं.

व्हाइट हाउस के सबसे हाई प्रोफाइल व्यक्ति एंथनी फौसी को वायरस एक्सपोजर में लो रिस्क माना गया है. संक्रामक विभाग ने ये जानकारी दी है. एंथनी फौसी व्हाइट हाउस के कोरोना टास्क फोर्स के सबसे अहम व्यक्ति और एक्सपर्ट हैं. उनका टेस्ट नेगेटिव आया है. उन्होंने कहा है कि वो आगे भी टेस्ट करवाते रहेंगे.

शुक्रवार को उपराष्ट्रपति माइक पेंस के प्रेस सेक्रेटरी कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे. इस हफ्ते वो दूसरे ऐसे व्हाइट हाउस में काम करने वाले शख्स हैं, जिन्हें कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया. बुधवार को ट्रंप की सुरक्षा में तैनात एक मिलिट्री सर्विंग को कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया था.

अमेरिकी राष्ट्रपति ये जानते हुए भी कि उपराष्ट्रपति माइक पेंस की प्रवक्ता केटी मिलर कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं, उन्होंने कहा है कि वो व्हाइट हाउस में कोरोना के संक्रमण फैलने को लेकर चिंतित नहीं हैं.