भारत ने कोरोना की वैक्सीन तैयार करने की दिशा में बढ़ाए मजबूती से कदम

दुनियाभर में कोरोना वायरस (Covid 19) से हाहाकार मचा हुआ है और तमाम देश इस जानलेवा वायरस की वैक्सीन खोजने में लगे हुए हैं. इटली और इजरायल ने तो दावा किया है कि उसने इस जानलेवा वायरस की वैक्सीन तैयार कर ली है. इस बीच भारत ने भी कोरोना वैक्सीन खोजने की दिशा में अहम कदम बढ़ा लिए हैं.

 वैक्सीन तैयार करने के लिए भारत में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने भारत बायोटेक इंटरनैशनल (बीबीआईएल) से हाथ मिलाया है.

अगर सबकुछ स्थितियों के अनुकूल रहा तो भारत बगैर किसी देश की मदद के जल्द ही इस वैक्सीन को तैयार कर लेगा. कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने के लिए पुणे के लैब से वायरस स्ट्रेन को भारत बायोटेक को भेज दिया गया है.

इसे लेकर आईसीएमआर ने एक बयान जारी किया है जिसमें कहा गया है कि अब वैक्सीन तैयार करने की दिशा में काम किया जाएगा. अगर वैक्सीन तैयार हो जाती है तो सबसे पहले जानवरों पर इसका परीक्षण किया जाएगा.

आईसीएमआर ने जो बयान जारी किया है उसके मुताबिक, ‘दोनों सहयोगियों ने वैक्सीन तैयार करने को लेकर काम शुरू कर दिया है. इस प्रक्रिया में आईसीएमआर- राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) की तरफ से भारत बायोटेक इंटरनैशनल को लगातार मदद मिलेगीष  वैक्सीन को तैयार करने, जानवरों पर परीक्षण करने तथा क्लिनिकल ट्रायल को तेज करने के लिए आईसीएमआर और बीबीआईएल तेजी से मंजूरी लेते रहेंगे.’

आईसीएमआर ने कहा है कि ‘दो साझेदारों के बीच टीके के विकास पर काम शुरू हो चुका है. आईसीएमआर-एनआईवी टीके के विकास के लिए बीबीआईएल को सतत मदद उपलब्ध कराएगा.’ अगर भारत कोरोना वैक्सीन तैयार करने में सफलता हासिल करता है तो निसंदेह यह देश के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी और कोरोना के खिलाफ जारी जंग में भारत को अहम सफलता मिलेगी.