सईद अजमल ने आईसीसी पर लगाया पक्षपात का आरोप, पढ़े पूरी खबर

पूर्व पाकिस्तानी ऑफ स्पिनर सईद अजमल ने गुरुवार को उन्हें संदिग्ध गेंदबाजी ऐक्शन के लिए आईसीसी द्वारा प्रतिबंधित किए जाने को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया. अजमल की गेंदबाजी ऐक्शन पर पहली बार 2009 में सवाल उठे थे, लेकिन ऐक्शन में बदलाव के बाद उन्हें आईसीसी ने क्लीन चिट दे दी थी. 

लेकिन ऐक्शन में बदलाव की वजह से अजमल अपना सबसे मारक हथियार ‘दूसरा’ कम फेंक पाते थे, जिससे उनकी फॉर्म में गिरावट आई. 

इसके बाद 2014 में फिर से उनके गेंदबाजी ऐक्शन पर सवाल उठे और 2015 में आईसीसी ने उनकी गेंदबाजी पर बैन लगा दिया. इसके दो साल बाद अजमल ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स से संन्यास ले लिया. 

सईद अजमल ने आईसीसी पर लगाया पक्षपात का आरोप
इस 42 वर्षीय पूर्व स्पिनर ने एक यूट्यूब वीडियो में कहा कि आईसीसी ने 2009 में पहले टेस्ट के दौरान उनकी उस मेडिकल कंडिशन पर विचार किया था, एक एक्सिडेंट में उनके हाथ में लगी चोट की की वजह से थी. लेकिन 2014 में आईसीसी ने उनकी इस मेडिकल कंडिशन पर विचार नहीं किया और इसलिए बैन कर दिया क्योंकि उसे पाकिस्तानी गेंदबाज की ज्यादा परवाह नहीं थी.

अजमल ने कहा, ‘2009 और 2014 का टेस्ट एक जैसा था, बस अंतर ये था कि उन्होंने वह मेडिकल कंडिशन हटा थी, जिसे 2009 में माना था. जब मुरलीधन ने क्रिकेट छोड़ दिया तो आईसीसी ने सोचा अब ये एक शख्स है सईद अजमल, जो पाकिस्तान से है और वे हमारे फैसले के खिलाफ कुछ नहीं कर सकते हैं.’