चारधाम यात्राः लॉकडाउन के बीच रावल न पहुंच पाएं तो फिर ऐसे होगी बदरीनाथ धाम में पूजा

उत्तराखंड की प्रसिद्ध चारधाम यात्रा आगामी 26 अप्रैल से शुरू होगी. गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही इस विश्वप्रसिद्ध यात्रा की शुरुआत होगी. लेकिन इस बीच लॉकडाउन की वजह से बदरीनाथ धाम के कपाट कैसे खुलेंगे या पहली पूजा कैसे होगी, इसको लेकर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं. चर्चा इस बात की ज्यादा है कि आखिर लॉकडाउन के कारण बदरीनाथ में पूजा करने वाले रावल यहां तक कैसे पहुंच पाएंगे. दरअसल, पारंपरिक रूप से रावल के द्वारा ही बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के बाद पूजा होती रही है. लेकिन अगर लॉकडाउन की वजह से रावल नहीं आ पाए, तो इस बार ब्रह्मचारी सरोला ब्राह्मण द्वारा पूजा कराई जा सकती है. आपको बता दें कि बदरीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल को खुलने हैं.

एक्ट में दिया गया है विकल्प

देहरादून से प्रकाशित अखबार हिंदुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक चार धाम यात्रा की शुरुआत के साथ ही इस बार बदरीनाथ धाम में रावल के न आने पर ब्रह्मचारी सरोला ब्राह्मण से पूजा कराई जा सकती है. इसकी व्यवस्था बदरी-केदार एक्ट में भी की गई है. अखबार के मुताबिक राज्य सरकार प्रयास कर रही है कि रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी कपाट खुलने से पहले पहुंच जाएं, ताकि पूजा शुरू होने में कोई अड़चन न आए. अखबार के मुताबिक, बदरी-केदार मंदिर समिति एक्ट के पूर्व मुख्य कार्याधिकारी जगत सिंह बिष्ट ने कहा कि 1939 में बने एक्ट में यह व्यवस्था दी गई है कि किसी कारणवश रावल के नहीं आने पर ब्रह्मचारी सरोला ब्राह्मण पूजा कर सकते हैं.

इस दिन खुलेंगे चार धामों के कपाट

गौरतलब है कि उत्तराखंड में हर साल होने वाली चार धाम यात्रा की शुरुआत 26 अप्रैल से होनी है. 26 अप्रैल को गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही इस यात्रा की शुरुआत होगी. इसके बाद 29 अप्रैल को केदारनाथ धाम के कपाट खोले जाएंगे. इसके एक दिन बाद यानी 30 अप्रैल को बदरीनाथ धाम के कपाट खुलेंगे. इन चार धामों के कपाट खुलने के साथ ही अगले 6 महीने तक चलने वाली इस पवित्र यात्रा की शुरुआत हो जाएगी.

कोरोना की वजह से रौनक कम रहने की आशंका

देश-दुनिया में इन दिनों कोरोना वायरस का आतंक मचा हुआ है. इसके कारण हजारों लोगों की जान जा चुकी है. भारत भी इस वायरस के संक्रमण से उबरने के प्रयास में लगा हुआ है. देश में इस वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन लागू है. पिछले दिनों ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में लॉकडाउन की अवधि को 3 मई तक के लिए बढ़ाने का ऐलान किया था. इसको लेकर चार धाम यात्रा में इस साल रौनक कम रहने की संभावना जताई जा रही है.