दिल्‍ली: तबलीगी जमात के संदिग्‍ध कोविड -19 मरीजों ने की एक और हरकत, एफआईआर दर्ज

निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के हुए धार्मिक आयोजन मरकज में हिस्सा लेने वाले लोगों को दिल्ली में अलग-अलग जगह क्वारेंटाइन किया गया है. इन क्वारेंटाइन सेंटर्स से लगातार तबलीगी जमात के संदिग्‍ध कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमित लोगों द्वारा परेशान करने की खबरें आ रही हैं. अब खबर द्वारका क्वारेंटाइन सेंटर से है. यहां डीयूएसआईबी के कुछ फ्लैट्स में तबलीगी जमात के लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है. इन फ्लैट्स से बोतलों में पेशाब भर कर खिड़कियों से बाहर फेंकने का मामला सामने आया है. इसके बाद वहां तैनात सिविल डिफेंस पर्सनल ने इसकी रिपोर्ट द्वारका पुलिस थाने में दर्ज करवाई.

200 लोग हैं मौजूद
जानकारी के अनुसार, चार फ्लैट्स को क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है. इस पूरी इमारत में यही फ्लैट्स हैं, जिनकी खिड़की से फेंका गया कोई सामान पंप हाउस के पास गिर सकता है. इस इमारत में करीब 200 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है और ये सभी वही लोग हैं जो मरकज का हिस्सा रहे थे. हालांकि, एफआईआर में किसी भी आरोपी का नाम नहीं है, क्योंकि किसी भी तरह की वीडियो रिकॉर्डिंग या सीसीटीवी फुटेज मौजूद नहीं है.

अस्पताल में भी की थी बदसलूकी

गाजियाबाद में भी एक अस्पताल में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटर से तबलीगी जमात के लोगों के अभद्र व्यवहार के बाद मामला दर्ज करवाया गया था. यहां पर जमातियों ने अपनी पेंट उतार दी थी और नर्सों को अभद्र इशारे व गंदे गाने गाए थे. जिसके बाद अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को सूचित किया था. मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला भी दर्ज किया था.

आत्महत्या का भी प्रयास
वहीं एक जमाती ने दिल्ली के राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में खुदकुशी का प्रयास किया था. हालांकि उसे अस्पताल में मौजूद डॉक्टरों और कर्मचारियों ने बचा लिया था. यह व्यक्ति अस्पताल की छठी मंजिल से कूदने की कोशिश कर रहा था. इस वारदात के बाद अस्पताल की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है. वहीं अस्पताल प्रशासन के अनुसार मरकज में शामिल हुए लोगों को अस्पताल की छठी मंजिल पर आइसोलेट किया गया है. यहीं पर मौजूद एक व्यक्ति ने खिड़की से कूदने का प्रयास किया लेकिन उसे समय रहते बचा लिया गया. अब इस वारदात को देखते हुए अस्पताल की सुरक्षा बढ़ा दी गई है जिससे ऐसा दोबारा नहीं हो.