उत्तराखंड: मरकज से लौटे दो जमातियों ने नहीं किया सरेंडर, हत्या के प्रयास का मामला दर्ज

कोरोना वायरस संक्रमण पर उत्तराखंड पुलिस की चेतावनी के बाद मंगलवार तक प्रदेश भर में तबलीगी जमातों से जुड़े 180 लोग सामने आए जबकि जानबूझकर अपनी जानकारी छुपाने वाले दो जमातियों के खिलाफ पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया.

प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) अशोक कुमार ने बताया कि प्रदेश के पुलिस मुखिया अनिल रतूडी द्वारा पांच अप्रैल को तबलीगी जमात में शामिल होने के बाद हाल में राज्य में आए लोगों से 24 घंटे के भीतर प्रशासन और पुलिस के सामने प्रस्तुत होने या कड़ी कार्रवाई का सामना करने को तैयार रहने की चेतावनी दी गई थी, जिसके अनुपालन में अब तक प्रदेश भर में 180 लोग सामने आए हैं.

उन्होंने बताया कि ये जमाती अलग-अलग जगहों में सामने आए हैं, जिनमें देहरादून, पौडी, नैनीताल और हरिद्वार जिले शामिल हैं. कुमार ने बताया कि निगरानी के जरिए हरिद्वार और रूड़की में दो ऐसे व्यक्तियों के बारे में पता चला जो हाल में राजस्थान के अलवर से जमात में शामिल होकर आए हैं लेकिन उन्होंने अपनी जानकारी छुपाई है.

उन्होंने बताया कि इन दोनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 301 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है, जिसमें 10 साल तक की सजा का प्रावधान है.

कुमार ने बताया कि इसके अलावा, एक से पांच अप्रैल के बीच चोरी-छिपे प्रदेश में प्रवेश कर रहे 41 लोगों और इन्हें शरण देने वाले हरिद्वार के लक्सर क्षेत्र के चार लोगों के खिलाफ आपदा प्रबंधन कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है.

उन्होंने बताया कि इसके अलावा, कोरोना वायरस संक्रमण के सम्बन्ध में सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने पर प्रदेश भर में 44 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.