कोरोना वायरस: ट्रंप कर रहे दादागीरी, धमकाने वाले अंदाज में भारत से मांगी हाइड्राक्सीक्लोरोक्वीन

वॉशिंगटन|…..सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक संभावित जवाबी कार्रवाई का संकेत दिया.अगर भारत कोरोना वायरस रोगियों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन  के निर्यात पर से प्रतिबंध नहीं हटाता है. कोरोना वायरस टास्कफोर्स ब्रीफिंग के दौरान व्हाइट हाउस से ट्रंप ने कहा कि भारत का अमेरिका के साथ बहुत अच्छे संबंध है और वह कोई कारण नहीं देखता है कि भारत अमेरिका के दवा के ऑर्डर पर लगाए रोक को नहीं हटाएगा. उन्होंने कहा कि यह नहीं सुना कि यह उनका (मोदी) फैसला था. मुझे पता है कि उन्होंने इसे अन्य देशों के लिए रोक दिया था जो मैंने कल उनसे बात की थी, बहुत अच्छी बात हुई और हम देखेंगे क्या होता है क्या नहीं, मैं सरप्राइज नहीं होऊंगा अगर वह ऐसा करेंगे क्योंकि भारत का संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ बहुत अच्छा संबंध है.

मोदी से फोन पर ट्रंप ने की थी बात
ट्रंप ने कहा कि मोदी के साथ उनके हाल में फोन कॉल के दौरान कहा था कि वह अमेरिका को आदेश जारी करने के अनुरोध पर विचार करेंगे. ट्रंप ने कहा कि भारत कई वर्षों से अमेरिकी व्यापार नियमों का फायदा उठा रहा है, और ऐसे में अगर नई दिल्ली हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के निर्यात को रोकता है, तो उन्हें हैरानी होगी. उन्होंने कहा कि अगर ये उनका निर्णय है, तो मुझे हैरानी होगी. उन्हें इस बारे में मुझे बताना होगा. मैंने रविवार सुबह उनसे बात की, उन्हें फोन किया, और मैंने कहा कि हम इस बात की सराहना करेंगे, यदि आप आपूर्ति होने देंगे. अगर वे इसकी इजाजत नहीं देंगे, तो कोई बात नहीं, लेकिन जाहिर तौर पर इसकी प्रतिक्रिया हो सकती है. क्यों नहीं होनी चाहिए? ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में कहा कि मुझे हैरानी होगी अगर वह ऐसा करेंगे, क्योंकि आप जानते हैं कि भारत का अमेरिका के साथ व्यवहार बहुत अच्छा रहा है.

ट्रंप ने पीएम मोदी से किया अनुरोध
ट्रंप ने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच अच्छे व्यापारिक समझौते हुए हैं और अगर भारत ने इस पर रोक हटाने का फैसला नहीं किया तो संभावित जवाबी कार्रवाई होगी. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा था कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन गोलियों की आपूर्ति करने का अनुरोध किया है जिनका उपयोग सीओवीआईडी -19 रोगियों के इलाज के लिए किया जा सकता है. ट्रंप ने व्हाइट हाउस कोरोना वायरस टास्क फोर्स ब्रीफिंग में घोषणा की कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कॉल करने के बाद, भारत इसे हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के लिए अमेरिकी ऑर्डर पर रोक हटाने के लिए गंभीरता से विचार कर रहा है.

निर्यात पर भारत ने लगा दी है रोक
भारत के विदेश व्यापार महानिदेशालय ने 25 मार्च को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर रोक लगा दी थी लेकिन कहा था कि कुछ भंडार को मानवीय आधार पर भेजने की अनुमति दी जा सकती है. मलेरिया की इस दवा का इस्तेमाल अब कई जगह कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज में किया जा रहा है.

अमेरिका में 10,000 से अधिक लोगों की मौत
अमेरिका में 10,000 से अधिक लोग कोरोना वायरस की वजह से मौत का शिकार बन चुके हैं. अमेरिका में अब तक कोविड-19 के संक्रमण के कम से कम 3,47,003 मामले हैं जबकि इससे 10,335 लोगों की जान जा चुकी है.