ये सामान्य गलतियां आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को करती हैं कमजोर

कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है, लेकिन इससे उबरने वाले भी कम नहीं हैं. कोरोना के हमले से वही बच सका है जिसकी इम्युनिटी बेहतर हो. ऐसा इसलिए क्योंकि कोरोना वायरस इम्युनिटी पर ही हमला करता है.

ऐसे में जरूरी है कि अपनी डाइट और लाइफस्टाइल को बेहतर करने के साथ कुछ गलतियों को करने से बचें. क्योंकि ये गलतियां जो आप रोज कर रहे हैं वह आपकी इम्युनिटी को कमजोर करता है. मौसम में हो रहा बदलाव भी इम्युनिटी को कमजोर करता है जिससे समान्य बीमारियों का खतरा भी रहता है. इसलिए आइए जानें कि वह गलतियां कौन सी है जो आपकी इम्युनिटी को कमजोर कर सकती हैं.

ये सामान्य गलतियां आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को करती हैं कमजोर

स्ट्रेस में रहने की आदत

तनाव यानी स्ट्रेस से इम्युनिटी तेजी से प्रभावित होती है. इसका असर आपके कामकाज पर भी पड़ता है. प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की रिपोर्ट बताती है कि जिन लोगों में तनाव ज्यादा होता है उन पर वायरस का खतरा ज्यादा होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि तनाव में शरीर कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन हार्मोन ज्यादा निकालने लगता है. जिससे शरीर में फागोसाइट्स और लिम्फोसाइटों कम होने लगते हैं और श्वेत रक्त कोशिकाओं की मात्रा कम होने से शरीर वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम नहीं होता. इस लिए तनाव को कम करने का प्रयास करें. एक्सरसाइज करें ताकि आपका स्ट्रेस कम हो.

प्रोसेस्ड फूड के प्रति लगाव

परिष्कृत कार्ब्स, चीनी और नमक से भरपूर प्रोसेस्ड फूड आपके प्रतिरक्षा प्रणाली पर तेजी से प्रभाव डालता है. प्रोसेस्ड फूड आंत के अच्छे बैक्टीरिया को मार देता है और इससे आंत कमजोर होने लगती है. जो लोग रोज ऐसा खाना खाते हैं उनकी इम्युनिटी पर गहरा असर पड़ता है। स्टडीज बताती हैं कि ज्यादा नमक वाले फूड्स खाने से न्यूट्रोफिल बैक्टीरिया खत्म करने की क्षमता कम होने लगती है. विटामिन डी और घुलनशील फाइबर संक्रमण से लड़ने वाली टी कोशिकाओं को सक्रिय करते हैं इसलिए अपनी डाइट में प्याज, लहसुन और अदरक को शामिल जरूर करें.

पर्याप्त नींद न लेने की आदत

यदि आप छह से आठ घंटे की नींद नहीं ले रहे तो आप अपने इम्युनिटी से खिलवाड़ कर रहे हैं. जब आप सोते हैं तो आपका शरीर साइटोकिन्स नामक एक प्रोटीन बनाता है जो शरीर को संक्रमण और सूजन से बचाता है. यदि आप सोते नहीं हैं  तो आपका शरीर पर्याप्त साइटोकिन्स का उत्पादन नहीं कर पाता और ये बैक्टीरिया और वायरस के हमले से बच नहीं पाता. अपने बेडरूम में कभी कोई इलेक्ट्रॉनिक्स चीजें न रखें क्योंकि ये आपके शरीर के सर्केडियन लय को बाधित करता है, जो नींद लाने वाले हार्मोन मेलाटोनिन को दबा देता है.

बहुत ज्यादा अल्कोहल लेना

नियमित रूप से अल्कोहल लेना आपकी इम्युनिटी को कमजोर करने का सबसे बड़ा कारण होता है. अल्कोहल आंत के सूक्ष्मजीव को बाधित करता है और आंतों में रहने वाले सूक्ष्मजीवों का पारिस्थितिकी तंत्र को प्रभावित करता है जिससे इम्युनिटी कमजोर होती है. शराब आपके आंत में स्वस्थ और अस्वास्थ्यकर बैक्टीरिया के बीच संतुलन को भी बिगाड़ती है, जिससे खराब बैक्टीरिया ब्लड से होते हुए लिवर तक जाता है और लिवर में सूजन हो सकती है.

धूम्रपान के आदी होना

तम्बाकू का सेवन सांस की नली के श्लैष्मिक को प्रभावित करता है. धूम्रपान अधिक करने से शरीर को अत्यधिक श्लेष्म पैदा करना पड़ता है जिससे सांस की नली संकरी हो जाती है और फेफड़ों में विषाक्त पदार्थ जमने लगते हैं. इससे इम्युनिटी का कमजोर होना तय है. तंबाकू द्वारा छोड़े गए शरीर को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है जिससे शरीर संक्रमण से लड़ने में कमजोर हो जाता है. धूम्रपान आपके खून में एंटीऑक्सीडेंट को भी कम करता है.

एक्सरसाइज न करना

एक्सरसाइज इम्युनिटी को बढ़ाती है और एक्सरसाइज न करना इम्युनिटी को कम करता है. एक्सरसाइज करने से एंटीबॉडी और सफेद रक्त कोशिकाएं दोनों ही बढ़ते हैं इससे शरीर वायरस आदि से लडने के लिए तैयार रहता है. एक्सरसाइज करने से तनाव पैदा करने वाले हार्मोन भी दूर होते हैं. एक्सरसाइज शरीर में कोर्टिसोल और एड्रेनालाईन को निकलने से रोकता है. तो रोज कम से कम 45 मिनट एक्सरसाइज जरूर करें.

अपनी इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए आपको खुद प्रयास करना होगा. इसलिए गलत आदतों से बचें और इम्युनिटी बढ़ाने का प्रयास करें.