26 अप्रैल को खुलेंगे गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट

विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट आगामी 26 अप्रैल को अक्षय तृतीय के पावन पर्व पर देश-विदेश के श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे. तय कार्यक्रमानुसार गंगोत्री धाम के कपाट दोपहर 12 बजकर  35 मिनट पर खोले जाएंगे. वहीं, यमुनोत्री धाम के कपाट भी इसी दिन खोले जाएंगे. इसके बाद आगामी छह माह के लिए देश विदेश से आने वाले श्रद्धालु गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में ही मां गंगा और यमुना के दर्शन के भागी बन सकेंगे.  

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के अवसर पर गंगोत्री तीर्थ पुरोहितों की ओर से गंगोत्री धाम के कपाट उद्घाटन का शुभ मुहूर्त निकाला गया. मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने बताया कि 25 अप्रैल को दोपहर 12:30 पर मां गंगा की उत्सव डोली अपने शीतकालीन प्रवास मुखबा गांव से गंगोत्री धाम के लिए रवाना होगी, जो रात्रि विश्राम भैरव घाटी स्थित भैरव मंदिर में करेगी. अगले दिन 26 अप्रैल रविवार की  सुबह 8 बजे मां गंगा की डोली गंगोत्री धाम पहुंचेगी. जहां अक्षय तृतीय के पावन पर्व पर विधि विधान के साथ गंगा पूजन, गंगा सहस्त्रनाम पाठ एवं विशेष पूजा अर्चना के बाद वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ रोहिणी अमृत योग की शुभ बेला पर दोपहर 12 बजकर 35 मिनट पर  गंगोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जायेंगे.

वहीं, यमुनोत्री धाम के कपाट भी अक्षय तृतीय पर ही खुलेंगे. यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव कृतेश्वर उनियाल ने बताया कि यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने का मुहूर्त  यमुना जयंती पर निकाला जाएगा. गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुलते ही प्रदेश की चारधाम यात्रा भी विधिवत शुरू हो जाएगी. इस मौके पर समिति के सचिव दीपक सेमवाल,उपाध्यक्ष अरुण सेमवाल, सह सचिव राजेश सेमवाल, प्रेम बल्लभ सेमवाल, राकेश सेमवाल आदि मौजूद थे.