पीएम मोदी ने पूरे भारत 21 दिनों के लिए किया लॉकडाउन, ये रही इसकी मुख्य वजह

पीएम नरेंद्र मोदी  मंगलवार रात सबके सामने आए और 21 दिन के लॉकडाउन का सख्त फैसला सुना दिया. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए यह कितना जरूरी है इसके पीछे की बात अब सामने आई है. दरअसल, पिछले दिनों 64 हजार के करीब भारतीय और विदेशी यहां आए हैं. यह बीमारी बाहर से ही भारत आई है, ऐसे में उनका लौटना खतरे की घंटी जैसा है. इसी वजह से सरकार ने पूरे भारत में लॉकडाउन और कई जगहों पर कर्फ्यू की भी घोषणा कर दी.

हेल्थ मिनिस्ट्री से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि आकंड़े देखें तो कोरोना वायरस के मामले अब भारत में तेजी से बढ़ रहे हैं. इसकी वजह विदेश से लौटे लोग ही हैं. देश में बुधवार तक कोरोना के 562 मामले सामने आए. इनमें से 40 ठीक हो चुके हैं, वहीं 11 की मौत हो गई है.

लोगों की लापरवाही लॉकडाउन की मुख्य वजह
अधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन लगाने की मुख्य वजह लोगों की लापरवाही है. दरअसल विदेश से लौटे 8000 लोगों को तो 14 दिन के लिए कैंप में रखा गया है. बाकियों को होम क्वारंटाइन होने को कहा गया है. बावजूद इसके कई मामले ऐसे सामने आए हैं कि ऐसे लोग ट्रेन, सड़क पर घूमते मिले. ऐसे में वह खुद या जिनके संपर्क में वे आए कोरोना के मुख्य वाहक हो सकते हैं.

अब 21 दिन का लॉकडाउन लगाने के पीछे सरकार की मंशा यही है कि बाहर से आए अगर किसी को कोरोना है भी तो वह उसे फैला न पाए. इस दौरान जिसमें लक्षण आने होंगे 14 जिन में दिख जाएंगे. उनका इलाज भी शुरू हो जाएगा वहीं जो पहले से पॉजेटिव हैं उनका भी इलाज पूरा हो जाएगा.

ICMR चीफ बलराम भार्गव बताते हैं कि इसलिए कोरोना फैलने की चेन को तोड़ने के लिए लॉकडाउन किया गया है. फिलहाल देश में 1,87,904 लोगों को देखरेख में अलग रखा गया है.