वाराणसी: ये रही पीएम मोदी के संबोधन की प्रमुख बातें

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 25 मार्च यानी बुधवार को शाम 5 बजे से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी के लोगों के साथ कोरोना वायरस के मुद्दे पर संवाद किया. पीएम मोदी ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी. उन्होंने इस मौके पर उन्होंने लोगों से इस बातचीत में शामिल होने की अपील की थी.

पीएम मोदी के संबोधन की प्रमुख बातें :

उन्‍होंने लोगों से यह भी कहा कि इस बीमारी को लेकर चिंता करने की आवश्‍यकता नहीं है. पीएम मोदी ने कहा, ‘आप ये भी ध्यान रखिए कि कोरोना से संक्रमित दुनिया में 1 लाख से अधिक लोग ठीक भी हो चुके हैं और भारत में भी दर्जनों लोग कोरोना के शिकंजे से बाहर निकले हैं. कल तो एक खबर में देख रहा था कि इटली में 90 वर्ष से ज्यादा आयु की माताजी भी स्वस्थ हुई हैं.’

उन्‍होंने कहा, ‘नागरिक के रूप में हमें अपने कर्तव्य करते रहना चाहिए, हमें सोशल डिस्टेंसिंग पर ध्यान देना चाहिए. हमें घर में रहना चाहिए और आपस में दूरी बनाए रखना चाहिए. कोरोना जैसी महामारी से दूर रहने का अभी यही एकमात्र उपाय है.’

पीएम मोदी ने इस दौरान संवाद भी किया. प्रो. कृष्‍णकांत वाजपेयी ने जब कोरोना वायरस की माहामारी से लड़ने के लिए सामाजिक जागरुकता फैलाने को लेकर एक सवाल का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘इस बीमारी में जो बातें सामने आई हैं, उसमें सबसे बड़ी सच्चाई यही है कि ये बीमारी किसी में भेदभाव नहीं करती. ये समृद्ध देश पर भी कहर बरपाती है और गरीब के घर में भी कहर बरपाती है.’

-उन्‍होंने कहा, महाभारत का युद्ध 18 दिनों में जीता गया, कोरोना के खिलाफ जो युद्ध लड़ा जा रहा है, उसमें 21 दिन लगने वाले हैं.’

-पीएम मोदी ने कहा, ‘मां शैलपुत्री के आशीर्वाद की बहुत आवश्‍यकता है. कोरोना महामारी के विरुद्ध जो युद्ध देश ने छेड़ा है,उसमें हिन्‍दुस्‍तान को 130 करोड़ देशवासियों को विजय प्राप्‍त हो.’

-पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत काबुल के गुरुद्वारे में हुए आतंकी हमले के पीड़‍ितों को श्रद्धांजलि देते हुए की.

यहां उल्‍लेखनीय है कि देश में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है. अब तक इस घातक संक्रमण के 582 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 11 लोगों की मौत‍ हो चुकी है. चूंकि इस बीमारी का अब तक कोई उपचार नहीं ढूंढ़ा जा सका है, इसलिए फिलहाल बचाव को ही इसके रोकथाम में प्रभावी माना जा रहा है. इसे देखते हुए पीएम मोदी ने मंगलवार को राष्‍ट्र के नाम अपने संबोधन में पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा की थी.

पीएम मोदी ने कहा, ‘संकट की इस घड़ी में, काशी सबका मार्गदर्शन कर सकती है, सबके लिए उदाहरण प्रस्तुत कर सकती है. काशी का अनुभव शाश्वत, सनातन, समयातीत है और इसलिए, आज लॉकडाउन की परिस्थिति में काशी देश को सिखा सकती है- संयम, समन्वय, संवेदनशीलता काशी देश को सिखा सकती है- सहयोग, शांति, सहनशीलता काशी देश को सिखा सकती है- साधना, सेवा, समाधान.’