मध्य प्रदेश : सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई से पहले बागी विधायक बोले, कुएं में कूदना पड़े तो भी सिंधिया के साथ

मंगलवार को कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु के एक होटल में ठहरे कांग्रेस के 22 बागी विधायकों ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. सभी 22 बागी विधायक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मौजूद रहे. बागी विधायक राजवर्धन सिंह ने कहा कि हमे किसी ने कैदी नहीं बनाया है.

हम कमलनाथ सरकार की कार्यशैली से खुश नहीं हैं. राजवर्धन सिंह ने कहा कि हम सभी साथ हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कांग्रेस के बागी विधायक गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि कमलनाथ जी ने हमें कभी 15 मिनट भी नहीं दिए. ऐसे में हम अपनी विधानसभा में विकास के लिए किससे बात करें? बागी विधायक इमरती देवी ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया हमारे नेता हैं, उन्होंने हमें बहुत कुछ सिखाया है.

मैं हमेशा उनके साथ रहूंगी चाहे मुझे कुएं में ही क्यों ना कूदना पड़े. मध्य प्रदेश में जारी सियासी संकट के बीच सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को भाजपा की याचिका पर सुनवाई करेगा. भाजपा ने अपनी याचिका में कमलनाथ सरकार से 12 घंटों के दौरान फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की है. इस पूरे मामले में एक बार फिर राज्यपाल बनाम स्पीकर को संविधान में मिली शक्तियों को लेकर लीगल डिबेट शुरु हो गई है.

बता दें कि मध्य प्रदेश में राज्यपाल लालजी टंडन ने सोमवार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराने के निर्देश दिए थे. हालांकि सोमवार को स्पीकर ने कोरोना वायरस के चलते विधानसभा की कार्यवाही को 26 मार्च तक के लिए स्थगित करने का आदेश दिया था. जिसके खिलाफ भाजपा कोर्ट चली गई है.