चीनी मीडिया का दावा, हुबेई प्रांत में 17 नवंबर को ही मिल गया था कोरोना का पहला मरीज

चीन भले ही अब जानलेवा कोरोना वायरस पर काबू पा चुका हो लेकिन अगर उसने थोड़ी सी समझदारी दिखाई होती तो यह दुनिया के लिए खतरा नहीं बनता. चीन की वेबसाइट साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने दावा किया है कि चीन ने हुबेई प्रांत में पिछले साल 17 नवंबर को ही कोरोना वायरस से संक्रमित पहले मरीज का पता लगा लिया था.

वेबसाइट साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने दावा किया है कि उसके हाथ कुछ सरकारी दस्तावेज लगे हैं, जिसके मुताबिक चीन ने पहला मरीज मिलने के 21 दिन बाद यानी 8 दिसंबर 2019 को कोरोनावायरस के पहले मरीज की जानकारी दी थी. वेबसाइट ने दावा किया है कि दिसंबर 2019 तक चीनी अधिकारियों ने 266 मरीजों की पहचान कर ली थी और 1 जनवरी 2020 तक 381 मामले सामने आ चुके थे.

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में मुताबिक 17 नवंबर को हुबेई में कोरोनावायरस से संक्रमित जिस पहले मरीज का पता चला था उसकी उम्र 55 साल थी. 17 नवंबर को कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आने के बाद हर दिन तीन से चार केस आते रहे. 27 दिसंबर को हुबेई के एक अस्पताल के डॉक्टर जैंग जिक्सियन ने बताया कि कोरोना नाम के वायरस से लोग संक्रमित हो रहे हैं लेकिन डॉक्टरों के इस वायरस के बारे में पता ही नहीं था. इसके बाद लगाता कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती चली गई.

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, चीन में कोरोना वायरस का पहला मामला 8 दिसंबर को रिपोर्ट किया गया था जबकि मेडिकल जर्नल द लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक चीन में कोरोना वायरस का पहला मामला 1 दिसंबर को रिपोर्ट किया गया था. रिपोर्ट के मुताबिक पहले मरीज को वुहान के झिंयिंतान अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

चीन में कोरोना के सबसे अधिक मरीज, अब तक हुईं 3200 की मौतचीन में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या अभी भी सबसे अधिक है. चीन में अब तक 3213 मरीजों की मौत हो चुकी है जबकि 80,860 मरीज अभी भी कोरोना वायरस से संक्रमित बताए जा रहे हैं. दुनिया की बात करें तो कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 6517 हो चुकी है जबकि 1,69,484 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित बताए जा रहे हैं.