कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया

बुधवार को मध्यप्रदेश के कद्दावर नेता और पूर्व सांसद ज्योदिरादित्य सिंधिया दिल्ली स्थित भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा की मौजूदगी में आधिकारिक रूप से भाजपा में शामिल हो गए.

इस मौके पर मध्य प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा भी मौजूद थे. इस अवसर पर सिंधिया ने मीडिया को संबोधित करते हुए भाजपा में शामिल होने की वजह बताई. ‘महाराज’ ने कहा कि कांग्रेस पार्टी जड़ता का शिकार हो गई है. कांग्रेस वह पार्टी नहीं रही जो पहले थी.

सिंधिया ने कहा, ‘मेरे जीवन में दो तारीखें बहुत महत्वपूर्ण रही हैं. कुछ घटनाएं जीवन को बदल देती हैं. मेरे जीवन में 30 सितंबर 2001 और 10 मार्च 2020 हैं. 30 सितंबर 2001 को मैंने अपने पूज्य पिताजी को खोया. यह जीवन बदलने का दिवस था. 10 मार्च 2020 को उनकी 75वीं वर्षगांठ थी. इस दिन मैंने एक नई परिकल्पना की और मैंने एक निर्णय लिया. हमारा लक्ष्य जनसेवा होना चाहिए और राजनीति केवल उस लक्ष्य की पूर्ति करने का एक माध्यम होना चाहिए. कांग्रेस में रहते हुए मैंने पूरी श्रद्धा के साथ प्रदेश एवं देश की सेवा करने की कोशिश की है.’

इससे पहले वह अपराह्न् 12.30 बजे पार्टी में शामिल होने वाले थे, लेकिन बाद में समय को आगे बढ़ा दिया गया.सिंधिया ने मंगलवार को भाजपा के पूर्व अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की, और उसके बाद दोनों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की थी.

इन बैठकों के बाद सिंधिया ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा भेज दिया था. इस्तीफे में तारीख सोमवार नौ मार्च की थी.