…जब बंदरों को भगाने के लिए आईटीबीपी के जवान बने भालू , देखे वीडियो

उत्तराखंड में बंदरों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. जिससे निपटने के लिए आईटीबीपी ने अनोखा रास्ता इजाद किया है. इस इजाद से बंदरों ने घने जंगलों में छिपकर जान बचाई. आईटीबीपी परिसर में जहां पर भी कोई बंदर बैठा था, वह जंगलों की तरफ दौड़ता हुआ दिखाई दे रहा था.

बता दें कि आईटीबीपी की 7वीं वाहिनी मिर्थी उत्तराखंड में बंदरों का जबरदस्त आतंक रहता था. उत्पाती बंदर कभी जवानों की बैरकों में घुस जाते, तो कभी मैस में घुसकर तोड़फोड़ मचा देते. जवान अपने कपड़ों को धो कर जब खुले में सूखने के लिए डालते तो बंदर उन्हें उठा ले जाते थे.

डंडे दिखाकर बंदरों को भगाने का प्रयास किया गया. इससे बंदर आईटीबीपी परिसर से चले जाते थे, मगर थोड़ी देर में ही वे वापस लौट आते. अब बंदरों को भगाने के लिए एक नई तरकीब सोची गई. आईटीबीपी के जवानों ने भालू के वेश जैसी ड्रेस तैयार कराई.

काले रंग की उस ड्रेस को पहनकर जब जवानों ने बंदरों के पीछे भागना शुरू किया तो बंदर दौड़ने लगे. वे ऐसे दौड़े कि उन्हें घने जंगलों में छिपकर जान बचानी पड़ी. आईटीबीपी परिसर में दो-तीन जवान भालू के वेश में इधर-उधर चलते रहे. नतीजा, कुछ ही देर में परिसर पूरी तरह बंदरों से खाली हो गया.