दुनिया के 2 जाने-माने कैंसर स्पेशलिस्टों ने चेताया- तत्काल जरूरी कदम नहीं उठे तो भारत में होगी ‘कैंसर की सुनामी’

वॉशिंगटन|… कैंसर मरीजों के सफल इलाज और इस घातक बीमारी के बारे में अपने बेहद अहम रिसर्चों की वजह से दुनिया भर में मशहूर भारतीय मूल के 2 अमेरिकी डॉक्टरों ने भारत को लेकर चेतावनी जारी की है। डॉक्टर दत्तात्रेयुडू नोरी और डॉक्टर रेखा भंडारी ने चेताया है कि अगर तत्काल और पर्याप्त कदम नहीं उठाए गए तो भारत बहुत जल्द ‘कैंसर की सुनामी’ की गिरफ्त में होगा।

नोरी ने कहा, ‘भारत में कैंसर के कारण हर दिन 1,300 लोगों की मौत हो रही है. भारत में हर साल कैंसर के करीब 12 लाख नये मामले सामने आते हैं. यह जल्द पता लगाने की कम दर और खराब इलाज के नतीजों को दर्शाता है.’ उन्होंने कहा कि भारत के लोगों के लिए कैंसर गंभीर सामाजिक एवं आर्थिक परिणाम ला सकता है जिससे अक्सर परिवारों को गरीबी और सामाजिक पक्षपात का सामना करना पड़ता है.

कैंसर पर अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान एजेंसी ने अनुमान जताया है कि 2030 तक हर साल करीब 17 लाख नये लोगों में कैंसर का पता चलेगा. नोरी ने कहा, ‘अगर हम कुछ कदम नहीं उठाते तो कैंसर सुनामी का रूप लेने के लिए तैयार है.’ इसे भारत में लोक स्वास्थ्य की बड़ी चुनौती बताते हुए पद्म श्री प्राप्त नोरी ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘आयुष्मान भारत परियोजना’ और राष्ट्रीय कैंसर रजिस्ट्री कार्यक्रम स्थापित करने के फैसले से प्रेरित हैं. उन्होंने इसे सही दिशा में महत्त्वपूर्ण कदम बताया.

किंग्सब्रूक ज्यूइश मेडिकल सेंटर में पीडियाट्रिक एवं पैलिएटिव प्रमुख भंडारी ने कहा कि भले ही भारत की ज्यादातर आबादी युवा है लेकिन देश को अब से 20 साल बाद तक के लिए योजना बनाने की जरूरत है जब देश बुजुर्गों की आबादी के मामले में भी सबसे आगे होगा. उन्होंने कहा कि रोग का जल्द पता लगाने और स्वास्थ्य शिक्षा समेत अगर पर्याप्त बचाव उपाय अभी नहीं किए गए और जरूरी स्वास्थ्य अवसंरचनाएं नहीं बनाईं गईं तो भारत को कल्पना से परे स्वास्थ्य संकट का सामना करना पड़ेगा.