ह‍िंदी सिनेमा की दिग्‍गज अदाकारा जया प्रदा के खिलाफ रामपुर कोर्ट ने जारी किया गैर जमानती वारंट, जानिए मामला

ह‍िंदी सिनेमा की दिग्‍गज अदाकारा जया प्रदा के खिलाफ रामपुर कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है. जया प्रदा ने रामपुर से बीजेपी के सिंबल पर लोकसभा चुनाव लड़ा था. हालांकि चुनाव में उन्‍होंने समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान से शिकस्‍त मिली थी. उसी दौरान उन पर आदर्श आचार संहिता उल्‍लंघन का केस दर्ज हुआ था जिस मामले में कोर्ट ने यह कार्रवाई की है. जानकारी के अनुसार, कोर्ट ने सुनवाई की तारीख 20 अप्रैल तय की है. इस तारीख को जया प्रदा को कोर्ट में पेशा होना होगा.

बता दें कि जया प्रदा सिनेमा के उन सितारों में से हैं जिन्‍हें पर्दे के साथ साथ राजनीति भी खूब भाई. 3 अप्रैल 1962 को आंध्रप्रदेश के एक छोटे से गांव राजमुंदरी में पैदा हुईं जया प्रदा ने राजनीति के उस मुकाम को हासिल किया है जो बहुत कम लोगों को नसीब होता है.

आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री एनटी रामा राव के कहने पर 1994 में जयाप्रदा ने राजनीत‍ि में आने का मन बनाया और तुलुगु देशम पार्टी ज्‍वाइन कर ली. इसके बाद एनटी रामा राव से संबंध खत्‍म होने के बाद जयाप्रदा चंद्रबाबू नायडू के साथ आ गईं और 1996 में आंध्र प्रदेश से राज्‍यसभा के ल‍िए चुनी गईं.

कुछ वक्‍त बाद उनका चंद्रबाबू नायडू के साथ मनमुटाव हो गया और वह अमर स‍िंह के सहयोग से समाजवादी पार्टी में शाम‍िल हो गईं. 2004 में उन्‍होंने यूपी के रामपुर से लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की थी. यह पहला मौका था. इसके बाद 2009 में उन्‍हें दूसरी बार लोकसभा जाने का मौका मिला.

2011 में जब अमर सिंह सपा से अलग हुए तो उन्‍होंने जया प्रदा के साथ अपनी राजनीतिक पार्टी राष्ट्रीय लोक मंच की स्थापना की. 2014 के चुनाव में जया प्रदा आरएलडी में शामिल हो गईं और बिजनौर सीट से चुनाव में उतर गईं. इस बार उन्‍हें हार का मुंह देखना पड़ा.