संसद की सुरक्षा में सेंध, तीन जिंदा कारतूस के साथ व्यक्ति पकड़ा

संसद की सुरक्षा में बड़ी सेंध लगने का मामला सामने आया है. सुरक्षाकर्मियों ने गुरुवार को संसद भवन के गेट नंबर आठ से एक व्यक्ति को पकड़ा. यह व्यक्ति तीन जिंदा कारतूस के साथ संसद भवन में दाखिल हो रहा था लेकिन तभी सरक्षा जांच में वह पकड़ा गया. पुलिस के मुताबिक व्यक्ति का कहना है कि वह संसद भवन में दाखिल होने से पहले कारतूस रखना भूल गया था. संसद के सुरक्षाकर्मियों ने बाद में उसे दिल्ली पुलिस को सौंप दिया. पुलिस उस व्यक्ति से पूछताछ कर रही है.

दिल्ली पुलिस का कहना है कि तीन जिंदा कारतूस के साथ संसद परिसर में दाखिल होने की कोशिश करने वाले व्यक्ति का नाम अख्तर खान है. उसकी जेब से तीन जिंदा कारतूस मिले लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ लिया. खान से पूछताछ करने और उसका सत्यापन करने के बाद उसे छोड़ दिया गया.

पुलिस का कहना है कि ऐसा लगता है कि खान से जानबूझकर गलती नहीं हुई है. पूछताछ में पता चला कि उसके पास हथियार का वैध लाइसेंस है और ऐसा लगता है कि वह जिंदा बुलेट्स अपने वैलेट से निकालना भूल गया था. फिर भी दिल्ली पुलिस सभी संभावित कोणों से इस मामले की जांच कर रही है. संसद भवन में दाखिल होने की इजाजत देने वाले उसके पास एवं यहां आने की वजह की भी जांच कर रही है.

बता दें कि संसद परिसर में गत बुधवार को सुरक्षाकर्मियों के बीच उस समय अफरा तफरी मच गई जब बाड़मेर से भाजपा सांसद विनोद कुमार सोनकर की कार वहां एक बूम बैरियर से टकरा गई. बूम बैरियर से टकराने के बाद वहां लगे स्पाइक्स सक्रिय हो गए और उनकी कार स्पाइक्स में फंस गई. इस घटना के दौरान संसद परिसर की सुरक्षा में लगे अलॉर्म बज गए. सुरक्षा अलॉर्म बजते ही सुरक्षाकर्मी हरकत में आ गए और उन्होंने अपनी पोजीशन ले ली.

साल 2001 के आतंकवादी हमले के बाद संसद की सुरक्षा काफी बढ़ा दी गई है. संसद सत्र के दौरान सांसदों एवं सुरक्षाकर्मियों मानक संचालन प्रकिया (एसओपी) का पालन करना होता है. अब सुरक्षा में तनिक भी चूक होने पर सुरक्षाकर्मी सतर्क हो जाते हैं. पिछले साल फरवरी में भी इसी तरह की एक घटना हुई थी. मणिपुर के कांग्रेस सांसद डॉ. थोकचोम मेन्या की कार संसद परिसर में लगे एक बैरिकेड से टकरा गई थी.