ओवैसी के विधायक ने दिया विवादित बयान, कहा-हम शांति बनाए रखना जानते हैं तो इसे भंग करना भी जानते है

कुछ दिन पहले ही असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता वारिस पठान के एक बयान को लेकर काफी बवाल मचा था अब इसी तरह का बयान उन्ही की पार्टी के विधायक ने दिया है. महाराष्ट्र के मालेगांव सेंट्रल से एआईएमआईएम विधायक मुफ्ती मोहम्मद इस्माइल का एक भड़काऊ वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमें वो कह रहे हैं कि यदि हम (मुस्लिम) शांति बनाए रखना जानते हैं, तो वे यह भी जानते हैं कि इसे कैसे खत्म किया जाता है.

इस वीडियो में वीडियो में विधायक मुफ्ती एक जनसभा को संबोधित कर रहे हैं. मुफ्ती कहते हैं, ‘शहर के लोगों को पता नहीं कि गोली चलती है तो कोई एफआईआर दर्ज नहीं होती है, आदमी जख्मी होता है तो कोई एफआईआर दर्ज नहीं होती है. साहब हम भी समझते हैं कि क्या हालात हैं और किन हालातों के अंदर डिपार्टमेंट चल रहा है. अगर ऐसा होता रहा तो शहर की आवाम खामोश नहीं बैठेगी. कई लोगों ने ये बात कही है कि अम्नों-अमान हमारी वजह से है अगर शहर पर बुरा वक्त आता है तो डिपार्टमेंट से पहले हम जाकर लोगों का सामना करते हैं, लोगों से मिलते हैं.’

इस वीडियो में मुफ्ती लोगों को भड़काते हुए कहते हैं, ‘अपने शहर का अम्नों-अमान कायम रहे इसके लिए हम मजमे में अपनी जान हथेली पर लेकर जाते हैं. अगर बात हम पर आएगी तो डिपार्टमेंट इस बात को नोट कर ले कि अगर हम अम्नो-अमान (शांति) रखना जानते हैं तो ये भी जानते हैं कि अम्नो-अमान कैसे जाएगा, वो भी हमें पता है. हमने कोई चूड़ियां नहीं पहनी हैं, ये हमारी शराफत है कि हम आज तक खामोश हैं. शहर के अंदर के अंदर इस तरह की गुंडागर्दी चल रही है.’

इस्माइल ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा है, ‘मैंने इसे अपने शहर के संदर्भ में कहा था. यह महाराष्ट्र या भारत से जुड़ा नहीं है. फायरिंग जो हमारे लोगों (एआईएमआईएम के रिज़वान खान के घर पर) पर हुई थी उसके संदर्भ में मैंने कहा कि हम शांति बनाए रखने में विभाग की मदद करते हैं, अगर हम इसे रोकते हैं तो शांति बाधित होगी.

आपको बता दें कि दक्षिण कर्नाटक में सीएए के विरोध में 16 फरवरी को आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए वारिस पठान ने कहा था कि 15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे. पठान ने कहा था, ‘आजादी लेनी पड़ेगी और जो चीज मांगने से नहीं मिलती है उसे छी के लेना पड़ेगा. अब वक्त आ गया है, हमको बोला मां-बहनों को आगे भेज दिया है. अरे भाई अभी तो केवल शेरनियां बाहर निकली हैं और तुम्हारे पसीने छूट गए और समझ लो कि दोनों लोग साथ में आ गए तो क्या होगा. 15 करोड़ हैं मगर एक सौ करोड़ पर भारी हैं याद रखना इस बात को. ये याद रखना लेना ये बात.’