रणजीत बच्चन हत्याकांड : लखनऊ पुलिस खुलासे के करीब पहुंची, मुंबई से शूटर को उठाया

विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की हत्या मामले में लखनऊ पुलिस खुलासे के करीब पहुंच गई है. जानकारी के अनुसार लखनऊ पुलिस ने मुंबई से शूटर को हिरासत में ले लिया है. माना जा रहा है पुलिस जल्द ही खुलासा करेगी. पुलिस सूत्रों के अनुसार परिवार के करीबी पर हत्या की साजिश का शक है. पता चला है कि रणजीत की हत्या की साजिश में परिवार से जुड़े हुए लोग शामिल थे, जो वारदात के समय रणजीत की पल-पल की लोकेशन दे रहे थे.

वहीं न्यूज 18 के पास घटना से जुड़ा एक सीसीटीवी फुटेज भी है. इसमें सफेद रंग की बलेनो कार से शूटर हजरतगंज में बीजेपी दफ्तर के पास उतरते दिखाई दे रहे हैं. इससे पहले मंगलवार को पुलिस ने चार संदिग्धों को हिरासत में लिया. बता दें कि रविवार दो फरवरी की सुबह रणजीत बच्चन की उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जब वो मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे.

हत्याकांड की जांच कर रही पुलिस ने रणजीत बच्चन के संदिग्ध हत्यारों की फोटो जारी की थी. पुलिस को सीसीटीवी फुटेज में दो संदिग्ध हत्यारे नजर आए, जिनकी फोटो जारी की गई. साथ ही सूचना देने वाले को 50 हजार के इनाम की भी घोषणा की गई. पुलिस ने एक ईमेल आईडी और फोन नंबर भी जारी किया, जिस पर सूचना देने वाले संपर्क कर सकते हैं.

इससे पहले मृतक रणजीत बच्चन की सामने आई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने के मुताबिक, हमलावरों ने हिंदूवादी नेता की नाक पर बेहद करीब से गोली मारी थी. अत्यधिक खून बहने के कारण उनकी मौत हो गई. सूत्रों के मुताबिक, रिपोर्ट में 9 एमएम की पिस्टल से गोली मारने का संदेह जताया गया है. बता दें कि आमतौर पर प्रोफेशनल किलर 9 एमएम पिस्टल का इस्तेमाल करते हैं. इससे पहले बदमाशों द्वारा मुंगेर की बनी .32 बोर के पिस्टल का इस्तेमाल करने की बात सामने आई थी.

रंजीत बच्‍चन हत्याकांड को लखनऊ के पॉश इलाके में से एक हजरतगंज में अंजाम दिया गया. लखनऊ के एडिशनल पुलिस कमिश्नर नवीन अरोड़ा ने बताया कि घटनास्थल से मृतक रंजीत बच्चन के दो मोबाइल फोन बरामद हुए हैं. साइबर सेल की एक टीम मोबाइल फोन का डेटा खंगालने में लगी है.

फायरिंग में घायल हुए रंजीत बच्चन के मौसेरे भाई आदित्य से पुलिस की टीम पूछताछ कर रही है. उन्होंने बताया कि रंजीत बच्चन का गोरखपुर में रहने वाली उनकी पहली पत्‍नी से विवाद चल रहा था. नवीन अरोड़ा के मुताबिक, मामले की जांच में कुल आठ टीमों को लगाया गया है. मृतक रंजीत बच्चन के खिलाफ गोरखपुर जिले में एक एफआईआर भी दर्ज है. पुलिस हर एंगल से मामले की जांच पड़ताल में जुटी है