रणजीत हत्याकांड :दो संदिग्धों की तस्वीर जारी, कंबल ओढ़े सीसी कैमरे में दिखे संदिग्ध

यूपी की राजधानी लखनऊ में रविवार को हिंदूवादी नेता रणजीत हत्याकांड मामले में एक संदिग्ध कंबल ओढ़े सीसी कैमरे में दिखाई दे रहा है. पुलिस संदिग्ध की तलाश में लगी है. आशंका जताई जा रही है कि संदिग्ध ही मुख्य आरोपित है.

उधर, पुलिस कमिश्नर ने संदिग्ध की पहचान कर सूचना देने वाले को 50 हजार के इनाम की घोषणा की है. जिसके तहत मोबाइल नंबर 9454400137 और ईमेल सीपीएलकेडब्ल्यू137एट जीमेल डॉट कॉम जारी किया है. सूचना देने वाले शख्स का नाम व पहचान गोपनीय रखा जाएगा. उधर, घटना का राजफाश करने के लिए आठ टीमें गठित की गई हैं, जो मृतक के आवास के आस-पास लगे 9 सीसीटीवी कैमरों को भी खंगाल रही है.

लखनऊ के एडिशनल पुलिस कमिश्नर नवीन अरोड़ा ने बताया कि घटनास्थल से मृतक रंजीत बच्चन के दो मोबाइल बरामद हुए हैं. साइबर सेल की एक टीम मोबाइल फोन का डेटा खंगालने में लगी है.

मृतक की पत्नी कालिंदी ने हत्या के पीछे हिंदू विरोधी संगठनों की संलिप्तता का आरोप लगाया है. हालांकि, उन्होंने किसी से रंजिश से इन्कार किया है. कालिंदी का कहना है कि रणजीत को फेसबुक और वाट्सऐप पर अक्सर धमकियां मिलती थीं.

पुलिस कमिश्नर सुजीत कुमार पांडेय समेत बड़ी संख्या में फोर्स ने घटना स्थल का मुआयना किया. मौके से पुलिस को कुछ खोखे मिले हैं. पुलिस कमिश्नर ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में हजरतगंज कोतवाली के केडी सिंह बाबू स्टेडियम चैकी इंचार्ज संदीप तिवारी समेत चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है.

पुलिस कमिश्नर के अनुसार हत्या के पीछे रंजिश, लूट, पारिवारिक विवाद समेत अन्य बिंदुओं पर पड़ताल की जा रही है. जल्द ही वारदात का राजफाश कर दिया जाएगा.

ज्ञात हो कि रणजीत बच्चन रविवार सुबह पत्नी कालिंदी और मौसेरे भाई आदित्य के साथ मानिर्ंग वॉक पर निकले थे. हमलावर अकेले बाइक से आया था. परिवर्तन चैराहे से थोड़ी दूर ग्लोब पार्क के पास बदमाश ने रणजीत को रोक लिया. हमलावर ने असलहा तानकर ताबड़तोड़ फायरिंग की है. रणजीत के सिर में गोली लगी और एक गोली उसके भाई के हाथ में जाकर धंसी. रणजीत ने विश्व हिंदू महासभा के नाम से एक संगठन बनाया था और वह उसके अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष थे.

संयुक्त पुलिस कमिश्नर नवीन अरोड़ा ने बताया कि घायल आदित्य श्रीवास्तव ने जानकारी दी थी कि वह भाई के रणजीत के साथ मॉनिंग वॉक पर ओसीआर से निकले थे. ग्लोब पार्क के पास आगे जाते हुए, एक व्यक्ति ने उन्हें रोका. वे शॉल ओढ़े हुए था, उसने उनके ऊपर असलहा लगाकर मोबाइल फोन छीनने का प्रयास किया. इसी झगड़े में गोली चल गई और सीधे रणजीत के सिर में जाकर लगी. वह मौके पर गिर गया. घटना में आदित्य के हाथ पर गोली लगी और वो घायल हो गया.

विश्व हिन्दू महासभा के अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष की हत्या के बाद सियासत तेज हो गई है. समाजवादी पार्टी ने इस घटना को लेकर सीधे योगी सरकार पर निशाना साधते हुए इस्तीफा मांगा है. पार्टी का कहना है कि लखनऊ में दिनदहाड़े इस हत्या के चलते आम लोगों में दहशत का माहौल है.

रणजीत बच्चन विश्व हिंदू महासभा के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष होने के साथ-साथ लंबे समय तक समाजवादी पार्टी से भी जुड़े रहे थे. वह सपा के लिए गोरखपुर में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करवाते थे. रणजीत बच्चन मूल रूप से गोरखपुर जिले के गोला के अहरौली पंचगांवा के रहने वाले थे, जोकि मौजूदा समय में लखनऊ में हजरतगंज की ओसीआर बिल्डिंग के बी ब्लॉक में रहते थे.