यूपी : अब इटावा में भी टीचर्स के शोषण से परेशान छात्र ने दी जान

टीचर्स पर छात्र के शोषण का आरोप लगते रहे है. कुछ दिन पहले नोएडा में रहने वाली इकिशा नाम की छात्रा ने भी खुदकुशी कर ली थी. आरोप स्कूल के टीचर्स पर लगा था. इकिशा के पिता और रिश्‍तेदार इंसाफ की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. नोएडा में टीचर्स की प्रताड़ना से परेशान छात्रा इकिशा की खुदकुशी के मामले में प्रदर्शन हुआ. छात्रा इकिशा के परिवारवालों ने सेक्टर 16 से कैंडल मार्च निकाला और बेटी के लिए इंसाफ की मांग की. वहीं मामले की सीबीआई जांच की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने मंजूर कर ली है. हालांकि अभी मामले की सुनवाई के लिए तारीख तय नहीं की गई है.

उत्‍तर प्रदेश में टीचर्स के शोषण से परेशान छात्र-छात्राओं के आत्‍महत्‍या कर लेने की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं. पहले नोएडा में इकिशा नाम की छात्रा ने खुदकुशी की थी, अब इटावा में भी ऐसा ही मामला सामने आया है. वहां के फ्रेंड्स कॉलोनी के महेरा फाटक के पास सागर यादव नाम के छात्र ने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी. परिजनों का आरोप है कि उसने टीचर्स के शोषण से परेशान होकर खुदकुशी की है. टीचर्स सागर पर उनसे कोचिंग पढ़ने का दबाव बना रहे थेे. नोएडा की छात्रा इकिशा के परिजनों ने भी स्‍कूल के टीचर्स पर उसके शोषण का आरोप लगाया है.

इटावा का रहने वाला सागर ज्ञान स्‍थलीय एकेडमी में 11वीं का छात्र था. परिजनों ने आरोप लगाया है कि सागर ने टीचर्स के शोषण से तंग आकर खुदकुशी की है. घरवालों के मुताबिक स्कूल के टीचर्स ने सागर पर कोचिंग पढ़ने का दबाव बनाया था. उसने उनसे 10 से 12 दिन तक कोचिंग पढ़ी लेकिन आगे पढ़ाई समझ में नहीं आने पर कोचिंग छोड़ दी थी.

परिजनों का आरोप है कि कोचिंग बीच में ही छोड़ देने से नाराज होकर स्‍कूल के टीचर्स ने सागर को 5 सब्‍जेक्‍ट में फेल कर दिया था. इसके बाद सागर ने तीन सौ रुपये प्रति विषय के हिसाब से दोबारा परीक्षा के लिए स्‍कूल में रुपये जमा कराए थे. लेकिन सागर को दोबारा फेल कर दिया गया. परिजनों का आरोप है कि इसी से परेशान होकर सागर बुधवार सुबह घर से निकल गया. इसके बाद ट्रेन के आगे छलांग लगाकर जान दे दी.