आईसीसी की स्मिथ पर गिरी गाज, एक मैच का लगाया प्रतिबंध

दुबई|…. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में गेंद से छेड़खानी के कारण विवादों में फंसे आस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ और सलामी बल्लेबाज कैमरून बेनक्रॉफ्ट पर अब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की गाज गिरी है.

आईसीसी ने रविवार को इस विवाद के कारण स्मिथ पर एक मैच का प्रतिबंध लगाया और बेनक्रॉफ्ट के हिस्से तीन नकारात्मक अंक डाल दिए हैं. स्मिथ पर 100 फीसदी मैच फीस व बेनक्रॉफ्ट पर 75 फीसदी मैच फीस का जुर्माना लगाया गया है.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी बेनक्रॉफ्ट ने पीले टेप के माध्यम से गेंद से छेड़छाड़ की थी. इस बात को बाद में आस्ट्रेलियाई कप्तान स्मिथ ने माना और कहा कि यह टीम की योजना थी और इसमें टीम का ‘लीडरशिप ग्रुप’ शामिल था.

इस हरकत के बाद क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) ने स्मिथ और डेविड वार्नर को तीसरे टेस्ट मैच के बाकी के बचे दो दिनों के लिए कप्तान और उप-कप्तान के पद से हटा दिया था. स्मिथ के स्थान पर टिम पेन टीम की कप्तानी कर रहे हैं.

सीए के बाद अब आईसीसी ने स्मिथ को अपनी आचार संहिता के अनुच्छेद 2.2.1 का दोषी माना है और उन पर एक मैच के प्रतिबंध के साथ ही 100 फीसदी मैच फीस का जुर्माना लगाया है.

आईसीसी ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान जारी कर कहा है, “आस्ट्रेलिया के कप्तान स्मिथ पर गेंद से छेड़खान की योजना में शामिल होने की बात को स्वीकार करने के बाद एक मैच का प्रतिबंध के साथ मैच फीस का 100 फीसदी जुर्माना भी लगाया गया है.”

बयान के मुताबिक, “आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड रिचडर्सन ने स्मिथ पर आचार संहिता के अनुच्छेद 2.2.1 के उल्लंघन के तहत आरोप लगाए हैं. स्मिथ ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों और दो निलंबन अंकों की सजा को स्वीकर कर लिया है, जिसके कारण वह अगले मैच में मैदान पर नहीं उतरेंगे. उनके हिस्से कुल चार नकारात्मक अंक आ गए हैं.”

रिचडर्सन ने कहा, “आस्ट्रेलियाई टीम के नेतृत्व का यह फैसला खेल की भावना के खिलाफ है. स्मिथ को इस घटना की पूरी जिम्मेदारी लेनी चाहिए और उन्हें निलंबित करना जायज है.”

स्मिथ के अलावा बैनक्रॉफ्ट पर मैच फीस का 75 फीसदी जुर्माना लगाया गया है. बयान के मुताबिक, “इसके अतिरिक्त, बैनक्रॉफ्ट को लेवल-2 के नियम का उल्लंघन करने के लिए मैच फीस का 75 फीसदी जुर्माना और तीन नकारात्मक अंक दिए गए हैं.”

बयान में कहा गया है, “बेनक्रॉफ्ट ने माना है कि उन्होंने आईसीसी की आचार संहिता के अनुच्छेद 2.2.9 का उल्लंघन किया है. उन्होंने मैच रेफरी द्वारा दी गई सजा को कबूल कर लिया है. इसलिए कोई आधिकारिक सुनवाई की जरूरत नहीं पड़ी.”