राहुल गांधी ने GST और नोटबंदी को बताया अर्थव्यवस्था के लिए खतरा

शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आगामी कर्नाटक विधानसभा चुनाव में पार्टी की सफलता के लिए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमया के साथ मैसूर के चमुंडेश्वर मंदिर दर्शन करने पहुंचे है. वहां उन्होंने चमुंडेश्वर मंदिर के दर्शन किए और भगवान का आर्शीवाद भी लिया. इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मैसूर के महारानी आर्ट कालेज फोर वोमन में आयोजित सभा में शामिल होने पहुंचे.

राहुल गांधी ने कालेज में आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए केंद्र की मोदी सरकार पर हमला किया. राहुल गांधी ने नीरव मोदी के हवाले से कहा कि नीरव मोदी बैकों के 22,000 करोड़ रूपये लेकर देश से चंपत हो गए.

राहुल गांधी ने कहा कि वहां मौजूद महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि क्या आप इस बात का अंदाजा लगा सकते है कि अगर ये 22000 करोड़ रूपये आप जैसी महेनती यंग लोगों को दे दिया जाता तो देश को कितना फायदा होता.

राहुल गांधी ने अपने भाषण में आगे देश की अर्थव्यवस्था के मद्देनजर कहा कि हां हम अर्थव्यवस्था के लिहाज से कुछ अच्छा तो कर रहें लेकिन हम लोग देश के बैरोजगार युवाओं के लिए उतने रोजगार मुहिया नहीं करा पा रहे जितने की हमें कराने चाहिए थे.

राहुल गांधी ने देश में युवाओं के लिए रोजगार के कम अवसर पैदा होने के पीछे युवाओं को जरूरी आर्थिक सहायता के ना मिलने और उनको जरूरी कौशल उपलब्ध नहीं करा पाने को मुख्य कारण बताया.

राहुल गांधी ने इसके पीछे बीजेपी की नीति को दोषी बाताते हुए कहा कि देश का ज्यादातर पैसा केवल 15-20 लोगों के पास ही चला जाता है. जिससे नए लोगों को व्यापार के लिए जरूरी पूंजी नहीं मिल पा रही है.

राहुल गांधी ने मोदी सरकार की नोटबंदी के फैसले पर हमला करते हुए कहा कि सरकार का नोटबंदी का फैसला लेना एक बड़ी गलती थी, और देश में नोटबंदी नहीं होनी चाहिए थी. राहुल गांधी ने नोटबंदी और GST को भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए उठाए गए सबसे घातक कदम बताया.