हरजीस ने सरकार पर मारे गए भारतीयों के परिवार के लोगों को बरगलाने का आरोप लगाया

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने लोकसभा में बताया कि एक शख्‍स हरजीत मसीह किसी तरह बच निकलने में कामयाब रहा था. जब वह इराक के इरबिल में था तो उससे बात भी हुई थी लेकिन ताजा जानकारी के संदर्भ में उसके द्वारा दी गई जानकारी झूठी थी. सुषमा स्‍वराज ने बताया कि दरअसल हरजीत खुद को मुस्लिम बताकर बच निकला था.

स्‍वराज ने राज्‍यसभा में मंगलवार को बयान देते हुए हरजीत मसीह के के उस दावे को खारिज कर दिया जिसमें उसने बताया था कि आईएसआईएस की गोली लगने के बावजूद वह उनके चंगुल से आजाद होकर भारत वापस आ गया था. सुषमा के बायन के बाद मसीह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उसने जो भी कहा था वो सच कहा था. हरजीस मसीह ने सरकार पर मारे गए भारतीयों के परिवार के लोगों को बरगलाने का आरोप लगाया.

मसीह के अनुसार 10-11 जून, 2014 को 40 भारतीयों को आईएस ने पकड़ लिया था. बंधक बनाकर चार-पांच दिन के बाद एक पहाड़ी पर ले जाया गया, जहां एक कतार में खड़ा कर पीछे से गोली मार दी गई. मसीह ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि उसको दाएं पैर में गोली लगी. वह गिर गया और मरने का नाटक किया. थोड़ी देर बाद जब आतंकी वहां से चले गए तो वह वहां से भाग निकला.

सुषमा स्वाराज के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि यह हैरान करने वाली बात है कि 2014 में बंधक बनाए गए 39 भारतीयों के निधन की सूचना आज दी जा रही है. साथ उन्होंने मारे गए भारतीयों के परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की.