राज्यपाल ने किया मुख्यमंत्री की पुस्तक ’’मनसा वाचा कर्मणा, उत्तराखण्ड उत्कर्ष’’ का विमोचन

राज्यपाल डाॅ.कृष्णकांत पाल ने मंगलवार को विधानसभा भराड़ीसैंण (गैरसैंण) में आयोजित पुस्तक विमोचन समारोह में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा लिखित पुस्तक ’’मनसा वाचा कर्मणा, उत्तराखण्ड उत्कर्ष’’ का विमोचन किया.

राज्यपाल डाॅ.पाल ने मुख्यमंत्री को उनके अनुभवों पर आधारित एवं सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं, लक्ष्यों और उपलब्धियों को लेखन के माध्यम से लोगों तक पहुंचाने के लिये बधाई व शुभकामनाएं दी.

पुस्तक विमोचन समारोह में विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, नेता प्रतिपक्ष मती इंदिरा हृद्येश सहित कैबिनेट मंत्रियों, विधायकगणों एवं अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को उनकी पुस्तक के लिये बधाई दी.

पुस्तक मेरे भाषणों का संकलन: मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री ने कहा कि ’’मनसा वाचा कर्मणा, उत्तराखण्ड उत्कर्ष’’ मेरे भाषणों का संकलन है. पिछले एक वर्ष में हमारी सरकार ने मन, वाणी एवं कर्म से राज्य के समग्र विकास के लिये ईमानदार पहल की है.

इस संकलन में सरकार की विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं, लक्ष्यों और उपलब्धियों को अपने शब्दों में पिरोने का प्रयास किया गया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों से वार्तालाप कर अपने अनुभवों को इस पुस्तक में संकलित करने का प्रयास किया है.

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में मैंने जौ देखा है, महसूस किया है, उसे सामने लाने का प्रयास किया है.पहाड़ से लेकर मैदान तक, किसान से लेकर मजदूर तक, पर्यटन से लेकर पलायन रोकने तक हर क्षेत्र में पूरी निष्ठा के साथ कार्य किया जा रहा है. ईमानदारी और पारदर्शिता राज्य सरकार के दो सबसे बडे मापदंड है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के न्यू इंडिया के विजन को संकल्प मानकर नया व उत्तराखण्ड बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे है.

पुस्तक के बारे में
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की 60 पृष्ठों की पुस्तक ’’मनसा वाचा कर्मणा, उत्तराखण्ड उत्कर्ष’’ में 18 वर्ष का युवा उत्तराखण्ड, कड़े फैसलों से संवरेगा उत्तराखण्ड, हमारा संकल्प-भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखण्ड, हमारा सपना, स्वस्थ, शिक्षित उत्तराखण्ड अपना, डबल इंजन से दौड़ता उत्तराखण्ड: अटल जी ने बनाया है मोदी जी संवार रहे हैं, खुशहाल होता देवभूमि का अन्नदाता, सगंध फार्मिंग को अपनाएं, बंजर भूमि को उपजाऊ बनाएं, सशक्त नारी, सशक्त उत्तराखण्ड, योग, आध्यात्म और एडवेंचर का संगम: देवभूमि उत्तराखण्ड, हमारे लक्ष्य: विजन 2020, हमारी संस्कृति और सभ्यता का उद्गम स्थल हिमालय, फैशन का राष्ट्रीय चिन्ह् बनता खादी, पुलिस की नई चुनौतियां-सुरक्षा, सामाजिक सरोकारिता ओर स्वच्छता, अपील का असर, रिवर्स माइग्रेशन की पहल शुरू एवं देववाणी संस्कृत का महत्व विषयों का संकलन किया गया है.