गिलानी ने तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन पद से इस्तीफा दिया

वरिष्ठ अलगाववादी नेता सैयद अली गिलानी ने अपनी पार्टी तहरीक-ए-हुर्रियत के चेटरमैन पद से इस्तीफा दे दिया है.

तहरीक-ए-हुर्रियत के एक प्रवक्ता ने पार्टी की बैठक के बाद बताया, “गिलानी के बाद अब वरिष्ठ हुर्रियत नेता मुहम्मद अशरफ सेहराई पार्टी के चेयरमैन होंगे.” गिलानी हालांकि अलगाववादी ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के चेयरमैन बने रहेंगे.

तहरीक-ए-हुर्रियत गिलानी की अगुवाई वाली हुर्रियत समूह का एक घटक है. जमात-ए-इस्लामी में फूट के बाद अगस्त 2004 में इसका गठन किया गया था.

माना जा रहा है कि टेरर फंडिग मामले में घेरे में आए गिलानी ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी की कार्रवाई के बाद मजबूर होकर यह कदम उठाया है.इससे पहले गिलानी ने शुक्रवार को दावा किया था कि उन्हें भारतीय खुफिया एजेंसी आईबी के एक अधिकारी की ओर से वार्ता का ऑफर मिला था जिसे उन्होंने खारिज कर दिया था.

बता दें, एनआईए ने पिछले दिनों जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद से जुड़ी आतंकवाद फंडिंग जांच के मामले में पाकिस्तान समर्थक अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के बेटों से पूछताछ की थी.