इस वजह से बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने खोया था आपा, ICC ने खराब बर्ताव के लिए दी सजा

श्रीलंका और बांग्लादेश के बीच खेले गए आखिरी टी20 मैच में बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन और नुरुल हसन को खराब बर्ताब का खामियाज़ा भुगतना पड़ा है. आइसीसी ने इन दोनों खिलाड़ियों पर 25 फीसदी मैच फीस का जुर्माना लगाने के साथ-साथ एक डिमेरिट अंक भी दिया है. आइसीसी ने इन दोनों को लेवल-1 का दोषी करार दिया है.

आइसीसी ने दोनों खिलाडियों को अलग-अलग घटनाओं में दोषी पाया है. शाकिब को खिलाड़ियों का समर्थन करने के लिए अनुच्छेद 2.1.1 का उल्लंघन का और हसन को खेल को बदनाम करने के जुर्म में अनुच्छेद 2.1.2 का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है.

शाकिब अल हसन ने बांग्लादेशी की पारी के 19.2 ओवर में आइसीसी के नियमों का उल्लंघन किया था. शाकिब अंपायर के फैसले का विरोध करते हुए बाउंड्री लाइन के पास आ गए थे और फिर उन्होंने अपने खिलाड़ियों को मैदान से बाहर आने का इशारा किया था. उनकी इस गलती के लिए अब आइसीसी ने बांग्लादेशी कप्तान पर जुर्माना के रूप में 25 फीसदी मैच फीस फाइन और एक डिमेरिट अंक दिया है.

बांग्लादेश के रिजर्व खिलाड़ी नुरुल हसन पर भी आइसीसी ने शाकिब की तरह ही जुर्माना के रूप में 25 फीसदी मैच फीस फाइन और एक डिमेरिट अंक है. हसन ने श्रीलंका के कप्तान थिसारा परेरा से बहस करते हुए उन्हें अंगुली दिखाई थी. इस वजह से आइसीसी ने हसन को दंड़ दिया है.

शनिवार सुबह, शाकिब और नुरुल दोनों ने अपराधों को स्वीकार कर लिया और इस तरह औपचारिक सुनवाई की कोई आवश्यकता नहीं पड़ी. इन दोनों खिलाड़ियों पर ये आरोप मैदानी अंपायर रवीन्द्र विमलसिरी और रुचिरि पल्लियगुरुज, तीसरे अंपायर रैनमोर मार्टिंज़ व चौथे अंपायर लिंडन हनीबल ने आरोप लगाए थे.

क्या था पूरा मामला…
दरअसल हुआ यह कि जिस गेंद पर मुस्तिफजुर रहमान जिस दूसरी गेंद पर आउट हुए, उसे उनके रन आउट होने से पहले स्कवॉयर लेग अंपायर ने नो-बॉल करार दिया. जाहिर है कि बांग्लादेशी टीम को इस नो-बॉल पर फ्री हिट मिलती. लेकिन मुस्तिफजुर के आउट होने के बाद दोनों अंपायरों ने मिलकर इस गेंद को वैध करार दिया. मैदानी अंपायरों के नो बॉल नहीं देने के फैसले से निराश हुए बांग्लादेशी बल्लेबाज बीच मैदान पर श्रीलंकाई क्षेत्ररक्षकों से भिड़ गए तो पवेलियन में बैठे कप्तान शाकिब अल हसन और उनकी पूरी टीम बाउंड्री लाइन के किनारे आ खड़े हुई.

शाकिब बाउंड्री लाइन से खड़े होकर अपने बल्लेबाजों महमुदुल्लाह और रुबेल हुसैन को मैच छोड़कर मैदान से बाहर आने के लिए कह रहे थे तो मैदानी अंपायर व श्रीलंकाई खिलाड़ी उन्हें ऐसा नहीं करने के लिए समझा रहे थे। बाउंड्री लाइन के बाहर रिजर्व अंपायर शाकिब को समझा रहे थे. इसके बाद मैच शुरू हुआ और बांग्लादेश की टीम मुकाबले जीत गई, लेकिन इसके बाद भी दोनों टीमों के खिलाड़ियों के बीच गहमा-गहमी चलती रही और फिर बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने ड्रेसिंग रुम में जाकर तोड़फोड़ कर दी. हालांकि अभी इसकी जांच चल रही है.