उत्‍तराखंड के CM रावत बोले- जो एक-दूसरे की शक्‍ल भी नहीं देखते थे, आज एक दूसरे का झंडा लगाकर घूम रहे हैं

त्रिपुरा में बीजेपी को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले राज्‍य के बीजेपी प्रभारी सुनील देवधर ने कहा कि ‘यह जीत त्रिपुरा की जनता की मांग थी. चलो पलटाय के इस नारे में त्रिपुरा में परिर्वतन की चाह पैदा की.’ उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने कभी त्रिपुरा को कभी गंभीरता से नहीं लिया. चुनाव प्रचार में मैंने खासी भाषा का भी इस्‍तेमाल किया. मैंने खासी समुदाय की भाषा सीखी.

वहीं, मेघालय के मुख्‍यमंत्री कॉनराड संगमा ने कहा कि पिछले कुछ सालों में हमने नॉर्थ ईस्‍ट में बदलाव देखा है. हमें यह सोच बदलनी होगी कि देश में हमारी अनदेखी की गई.

सुनील देवधर ने चर्चा के दौरान कहा कि लेनिन की मूर्ति गिराना गलत था. भाजपा इसकी निंदा करती है. पुतला गिराकर आप किसी विचारधारा को खत्‍म नहीं कर सकते. 6 तारीख को हमारे विधायक दल की बैठक हुई और बिप्‍लव देव ने कुर्सी संभालते ही कहा कि कानून-व्‍यवस्‍था बिगाड़ने वालों को बख्‍शा नहीं जाएगा.

हम 21 राज्‍यों में जीते हैं, वहां भारत माता की जय के नारे लगते हैं और कहीं कोई उप चुनाव जीतता है तो वहां भारतविरोधी नारे लगते हैं. मेरा मानना है कि देश के खिलाफ नारेबाजी का कोई समर्थन नहीं कर सकता.

विधानसभा का चुनाव न लड़ने के सवाल पर संगमा ने कहा कि मेरा मानना था कि पार्टी अध्‍यक्ष के रूप में मुझे अपनी जिम्‍मेदारी पूरी करनी चाहिए, इसलिए मैंने राज्‍य में हर जगह पार्टी को स्थिति में मजबूत किया. अगाथा संगमा को लेकर उन्‍होंने कहा कि यह तय हुआ था कि जीत के बाद विधायक दल अपना नेता चुनेगा और दल ने यह निर्णय लिया.

उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि ‘फूलपुर और गोरखपुर उप चुनाव दूसरे रंग में हुआ है. जो कभी एक-दूसरे की शक्‍ल भी नहीं देखते थे वो आज एक ही डंडे में एक दूसरे का झंडा लगाकर घूम रहे हैं.’ उन्‍होंने कहा कि ‘उत्‍तराखंड की जनता प्रखर राष्‍ट्रवादी जनता है.’

रावत ने आगे कहा कि ‘अभी तीन राज्‍यों के भी परिणाम आए और वहां भाजपा की सरकार बनी, मेरा मानना है कि यूपी उप चुनाव की कोई तपन उत्‍तरांखड तक आई है.’ उन्‍होंने कहा कि आज दुनिया में भारत अपनी पहचान बना रहा है. कभी हम किसी दूसरे का लबादा ओढ़कर जाते थे, लेकिन अब हमारी अपनी अलग पहचान है.

उन्‍होंने कहा कि उत्‍तराखंड की जनता पूरी तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ है, भाजपा के साथ है. देश के टुकड़े करने की बात करने वालों को देखना चाहिए कि वो आखिर किसके कहने पर ऐसा कर रहे हैं.