ऊंचे पहाड़ों पर ‘मुसीबत के तूफान’ की चेतावनी

उत्तराखंड के ऊंचे पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए एक ‘मुसीबत का तूफान’ आने वाला है. सैलानी भी अगर वहां गए हैं तो पहले ही सचते हो जाएं, क्योंकि राज्य में 5 जिलों के ऊंचे इलाकों में बर्फीला तूफान आने की आशंका है. तूफान और भारी बर्फबारी के कारण यहां जिंदगी अस्त-व्यस्त हो सकती है.

दिल्ली से केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के लिए खास चेतावनी जारी की है. इसके अनुसार बुधवार 21 जनवरी से ऊंचे क्षेत्रों में भारी बर्फबारी की आशंका जताई गई है. इससे पहले भी जनवरी के ही महीने में 8 तारीख को यहां बर्फीला तूफान आया था और कई हिस्से बुरी तरह से प्रभावित हुए थे. उस तूफान और बर्फबारी के कारण 100 से ज्यादा मकान क्षतिग्रस्त हो गए थे.

बर्फीले तूफान यानी एवलॉन्च की पूर्व सूचना मिलते ही मुख्य सचिव एन. रविशंकर ने संबंधित जिलाधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश जारी कर दिए. शनिवार को ही केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उत्तराखंड सरकार को इस तूफान की जानकारी देते हुए दिशा-निर्देश जारी किए और सचेत रहने को कहा.

राज्य के पिथौरागढ़, चमोली, टिहरी, पौड़ी और उत्तरकाशी जिले में समुद्र तल से ढाई हजार मीटर से ऊंचे इलाके के इस तूफान की चपेट में आ सकते हैं. भारी बर्फबारी के कारण 21 से 23 जनवरी के बीच एवलॉन्च की आशंका जताई गई है. मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि मंगलवार 20 जनवरी की शाम से ही मौसम बिगड़ना शुरू हो सकता है. इस साल सर्द‍ियों में पहली बार केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजय सरकार को व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं.

किसी भी तरह की अनहोनी के निपटने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग की भी तैयारी पूरी है.