Home हमारी विरासत अल्‍मोड़ा

अल्‍मोड़ा

18-23 सितंबर तक होगा नंदादेवी मेला, पौराणिक मेले को मिलेगा भव्य...

अल्मोड़ा।... ऐतिहासिक व सांस्कृतिक महत्व वाले नंदादेवी मेले को इस बार भव्य स्वरूप दिए जाने की तैयारी है। यह निर्णय यहां मां नंदा देवी...

अल्मोड़ा : कुमाऊंनी संस्कृति से ओतप्रोत होगा नंदा देवी मेला, तैयारियां...

सितंबर महीने के दूसरे पखवाड़े में शुरू होने वाला ऐतिहासिक नंदादेवी मेले को भव्य रूप देने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं।...

कुमाऊं की ऐपण कला को राज्य कला का दर्ज़ा – मुख्यमंत्री

अब ऐपण डालना और गर्व की बात बन चुकी है क्यूंकि अब उसको राज्य कला का दर्ज़ा मिल चुका है। जी हाँ! इसकी घोषणा...

अल्मोड़ा में बैठकी और खड़ी होली की धूम, देर रात तक...

रंगों के त्योहार होली में अब गिने-चुने दिन रह गए हैं। उत्तराखंड की सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में भी होली गायन शुरू हो गया है।...

अल्‍मोड़ा के मेले और धार्मिक आयोजन

अल्‍मोड़ा के मेले (कौतिक) न केवल धार्मिक, सामाजिक और लोगों की सांस्‍कृतिक पृष्‍ठभूमि की अभ‍िव्‍यक्‍ति करते हैं, बल्‍कि यह लोक संस्‍कृति और आर्थ‍िक गतिविधियों...

अल्मोड़ा : नन्दा देवी मंदिर के दो साल पूरे, रविवार से...

अल्मोड़ा स्थित नन्दा देवी मंदिर की स्थापना के 200 साल पूरे हो गए हैं. नन्दा देवी मेले को भव्य बनाने के लिए मंदिर समिति...

चितई गोलू मंदिर में शादी करने जा रहे हैं तो वर-वधु...

जिला मुख्यालय अल्मोड़ा से आठ किलोमीटर दूर पिथौरागढ़ हाईवे पर न्याय के देवता कहे जाने वाले गोलू देवता का मंदिर है, इसे चितई ग्वेल...

ऐपण : अल्मोड़ा की खूबसूरत विरासत, जो दुनियाभर में फैली है

अल्मोड़ा के ऐपण अपनी खूबसूरती के लिए देश में ही नहीं दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं। यहां की संस्कृति और त्योहारों की खुशी का रंग...

कुमाऊं की सदियों पुरानी लोक कला है ऐपण, आज भी बरकरार...

उत्तराखंड में कुर्मांचल के लोग अपनी लोक कलाओं को सहेजने का हुनर अच्छी तरह से जानते हैं। यही वजह है कि यहां के लोगों...

रानीखेत : बग्वालीपोखर में लगा ऐतिहासिक बग्वाली मेला, नृत्य श्रृंगार की...

अल्मोड़ा जिले के रानीखेत विकासखंड में द्वाराहाट के बग्वालीपोखर में ऐतिहासिक बग्वाली मेला शुरू हो गया. पांडवकालीन पौराणिक स्थल पर शंखनाद के साथ ही...

अन्य खबरें