चिट फंड मामले में सीबीआई ने राजीव और कुणाल घोष से पूछताछ की

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शारदा और रोज वैली चिट फंड घोटालों के संबंध में कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार और तृणमूल कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सदस्य कुणाल घोष से सोमवार को फिर पूछताछ की. सीबीआई ने कुमार से लगातार तीसरे दिन, जबकि घोष से लगातार दूसरे दिन पूछताछ की है, जिन्हें सोमवार को कुमार के सामने बैठाकर पूछताछ की गई.

सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा, दोनों से पूछताछ हो रही है और हमें नहीं पता कि यह कब तक चलेगी. चिटफंड के दो घोटालों में नवंबर 2013 में गिरफ्तार किए गए घोष को कोलकाता उच्च न्यायालय ने 2016 में जमानत पर रिहा कर दिया था.

घोष ने कहा, उन्होंने (सीबीआई) मुझे समन भेजा था. मैं सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर यहां आया और मै उनके साथ सहयोग करूंगा. उन्होंने कहा, सीबीआई मुझसे पूछताछ करने वाले पुलिस अधिकारी से पूछताछ कर रही है. यह मेरी नैतिक जीत है.

घोष ने शारदा चिट फंड घोटाले में इससे पहले मुकुल राय और 12 अन्य लोगों के शामिल होने की बात की थी. मुकुल राय तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो चुके है. सीबीआई ने जरूरी दस्तावेज रखने और उनसे छेड़छाड़ करने के आरोप में कुमार से शनिवार को आठ घंटों तक पूछताछ की थी.

सर्वोच्च न्यायालय के मंगलवार के आदेश के अनुसार, कुमार कोलकाता से गुवाहाटी होते हुए शुक्रवार शाम शिलॉन्ग पहुंचे थे. सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें तटस्थ स्थान शिलॉन्ग में सीबीआई की पूछताछ में सहयोग करने का निर्देश दिया था. उनके साथ राज्य के तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी- अतिरिक्त पुलिस आयुक्त जावेद शमीम, विशेष कार्य बल प्रमुख मुरलीधर शर्मा और सीआईडी प्रमुख प्रवीन कुमार त्रिपाठी भी है.