सवर्णों के आरक्षण पर हरीश रावत ने कहा, बहुत देर की मेहरबां आते-आते

कांग्रेस के दिग्गज नेता और उत्तरखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण को केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा मंजूरी दिए जाने पर केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘बहुत देर की मेहरबां आते-आते’, वह भी तब जब चुनाव सिर पर हैं. वे चाहे कुछ भी करें और कोई भी ‘जुमला’ दें लेकिन इस सरकार कोई बचा नहीं पाएगा.

जानकारी के लिए आप को बता दें कि सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में गरीब सवर्णों के लिए नौकरी और शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण के प्रस्ताव मंजूरी दे दी गई है. केंद्र सरकार अब इस फॉर्म्युले को लागू करने के लिए आरक्षण का कोटा बढ़ाएगी.

सूत्रों के मुताबिक आरक्षण का कोटा मौजूदा 49.5 फीसदी है जोकि अब बढ़ाकर 59 फीसदी किया जाना है. इसमें से 10 फीसदी कोटा आर्थिक रूप से कमोजर सवर्णों के लिए आरक्षण.