चीन का खोजी यान चांद के अनदेखे हिस्से में उतरा

बीजिंग| चीन का अंतरिक्ष यान चांग 4 गुरुवार को चांद के सुदूर क्षेत्र पर उतरने वाला पहला यान बन गया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ने घोषणा कर बताया कि एक लैंडर और एक रोवर वाला अंतरिक्ष यान सुबह 10.26 बजे (बीजिंग समयनुसार) 177.6 डिग्री पूर्वी देशांतर और 45.5 डिग्री दक्षिण अक्षांश में चांद के अनदेखे हिस्से में उतरा जो पृथ्वी से कभी नजर नहीं आता.

क्‍यों रहता है चांद की एक ओर अंधेरा
चांद का हमेशा एक ही हिस्‍सा हमें इसलिए दिखता है, क्‍योंकि जिस गति से वह पृथ्‍वी के चक्‍कर लगाता है, उसी गति से अपनी धुरी पर भी चक्‍कर लगाता है. यही कारण है कि चांद का एक हिस्‍सा हमें नहीं दिखाई देता है. बताया जाता है कि चंद्रमा का अनदेखे हिस्‍सा मानव के बसने के लिए आदर्श है.

क्योंकि यहां पानी बर्फ के रूप में रहता है. यान से बंधा लैंडर से बंधे जर्मन विकिरण डिटेक्टर यह परीक्षण करेंगे कि लोगों के लिए लंबे समय तक जीवित रहना कितना खतरनाक होगा. रोवर सौर पैनलों द्वारा संचालित होता है और उसके ऊपर एक कैमरे होता है जो लगातार छवियों को कैद करता है और दृश्यमान और अवरक्त प्रकाश को मापकर चंद्रमा के चट्टान के रासायनिक मिश्रण का विश्लेषण करेगा.