स्ट्रेटेसिस ने भारत का पहला 3डी प्रिटिंग पाठ्यक्रम लांच किया

3डी प्रिटिंग कंपनी स्ट्रेटेसिस इंडिया ने बेंगलुरू के निजी शैक्षणिक ट्रस्ट नेट्टर टेक्निकल ट्रेनिंग फाउंडेशन की भागीदारी में देश का पहला एडिक्टिव मैनुफैक्चरिंग (एएम) सर्टिफिकेशन कोर्स लांच किया है. कंपनी ने यहां ‘स्ट्रेटेसिस इंडिया यूजर फोरम 2018’ के दूसरे संस्करण में मंगलवार को कहा कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम को छात्रों ने 3डी प्रिंटिंग की नई प्रौद्योगिकियों को सीखने में मदद करने और उन्हें भविष्य के लिए तैयार करने के लिए डिजाइन किया गया है.

स्ट्रेटेसिस ने एफ370 प्रिंटर्स की अपनी नवीनतम श्रंखला का प्रदर्शन किया, जो तेजी से 3डी प्रोटोटाइप की सुविधा के लिए सभी इंजीनियरिंग वातावरण के अनुकूल है. स्ट्रेटेसिस के प्रबंध निदेशक (भारत और दक्षिण पूर्व एशिया) राजीव बजाज ने कहा, 3डी प्रिंटिंग में भारत में अत्यधिक विकास की क्षमता है, लेकिन इसे तेजी से बढ़ना होगा. हमने गौर किया है कि यहां 3डी प्रिंटिंग के विविध एप्लिकेशंस को लेकर जागरूकता की कमी है.

एडिक्टिव मैनुफैक्चरिंग (एएम) या 3डी प्रिटिंग में आनेवाले सालों में कई उद्योगों को बदलने की क्षमता है. कंपनी ने कहा, विनिर्माण, वाहन, एयरोस्पेस और रक्षा, स्वास्थ्य सेवाएं और शिक्षा उन महत्वपूर्ण क्षेत्रों में से हैं, जहां भारत में 3डी प्रिंटिंग का सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाएगा.