दिल्ली : शिक्षक के अपमानित करने व फटकार लगाए जाने से तंग आकर छात्रा ने की आत्महत्या

दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को कहा कि अपने विज्ञान के शिक्षक द्वारा लगातार अपमानित करने व फटकार लगाए जाने से तंग आकर कक्षा सात की एक छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. डेजी राठौर (12) ने एक दिसंबर को अपने घर में पंखे से लटकर आत्महत्या कर ली.

डेजी ने उसका उत्पीड़न करने वाले शिक्षक का नाम अपनी हथेली व हाथ पर लिखा है और और अपने फांसी पर लटकने का कारण भी बताया है. संयुक्त पुलिस आयुक्त मधूप तिवारी ने मीडिया से गुरुवार को कहा, “हम पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं और पीड़ित के दोस्तों व सहपाठियों के बयान रिकॉर्ड कर रहे हैं. हम दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे.”

उन्होंने कहा, “लड़की ने हथेली व हाथों पर लिखा है कि वह अब स्कूल नहीं जाना चाहती थी. उसने अपनी मां व दादी से माफी मांगी है और कहा कि वह भगवान कृष्ण से मिलने जा रही है.” लड़की को आखिरी बार उसकी मां कमल राठौर ने तीस हजारी कोर्ट जाने से पहले देखा था. कमल कोर्ट में वकील हैं.

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि लड़की की मां जब करीब 4 बजे अदालत से घर लौटीं तो अपनी बेटी का मृत शरीर पाया. एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया है. इंदरपुरी निवासी किशोरी ने अपने विज्ञान शिक्षक के खिलाफ लगातार अपमानित करने का आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा, “मेरी बेटी की शिकायत है कि वही शिक्षक हर रोज उसे फटकार लगाता था. इसी शिक्षक ने शुक्रवार को बॉयोलाजी लैब में उसकी कक्षाध्यापक की मौजूदगी में दस मिनट तक उसे अपमानित किया व डांट लगाई. “कमल राठौर ने मीडिया से कहा, “इस घटना के बाद वह स्कूल के बॉथरूम में जाकर रोई थी.”

उन्होंने कहा, “वह मुझ पर स्कूल बदलने के लिए जोर दे रही थी, लेकिन मैं स्थिति की गंभीरता को नहीं समझ सकी. मुझे यह एहसास नहीं हुआ कि यह कितना भयावह हो सकता है और वह आत्महत्या कर लेगी. “लड़की की मां ने कहा, “उसका (डेजी) विज्ञान शिक्षक बेकार की बातों पर उसे अक्सर फटकार लगाता था.”

लड़की की मां गुरुवार को इस घटना का विवरण देते हुए पत्रकारों के सामने रो पड़ी. कमल राठौर के पति आठ साल पहले गुजर चुके हैं. स्कूल प्रबंधन ने घटना की जांच के लिए एक आंतरिक समिति बनाई है, जो दिल्ली पुलिस को इस मामले की रिपोर्ट सौंपेगी.