इन बीमारियों के लिए रामबाण है लेमन ग्रास

नींबू घास (लेमन ग्रास) काफी भारतीय घरों में उगाई जाती है. इसे लेमन ग्रास/चायना ग्रास/भारतीय नींबू घास/मालाबार घास अथवा कोचीन घास भी कहते हैं. इसका वैज्ञानिक नाम सिम्बेपोगोन फ्लक्सुओसस (Cymbopogon flexuosus) है. इसकी पत्तियां चाय में डालने हेतु उपयोग में लेते हैं. पत्तियों में एक मधुर तिक्षण गंध होती है जो चाय में डालकर उबबलकर पीने से ताजगी के साथ साथ सर्दी आदि से भी राहत देती है.

इसकी खेती के लिए डूंगरपुर, बांसवाड़ा व प्रतापगढ़ के कुछ हिस्से उपयुक्त हैं. जहाँ यह प्राकृतिक रूप से पैदा होती है. इसकी विधिवत खेती केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, आसाम, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश एवं राजस्थान राज्यों में हो रही है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये जादुई हर्ब कई बीमारियों को दूर करने में सहायता करता है. जी हां नींबू की सुगंध लिये लेमन ग्रास में जबरदस्त औषधीय गुण होते हैं. यह हब विटामिन ए और सी, फोलेट, फोलिक एसिड, मैग्नीघशियम, जिंक, कॉपर, आयरन, पोटैशियम, फास्फोररस, कैल्शि्यम और मैगनीज़ से भरपूर होती है.

लेमन ग्रास टी सेहत के लिये लाभकारी मानी गई है. यह एंटीबैक्टीसरियल, एंटीफंगल, एंटी-कैंसर, एंटीडिप्रेसेंट गुणों से भरपूर होती है. ताजी सूखी लेमन ग्रास आपको आसानी से बाजार में मिल जाएगी. आइए लेमन ग्रास के हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में जानें.

1) एनीमिया दूर करें-: लेमनग्रास आयरन से भरपूर होने के कारण, यह उन महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी होती है जो आयरन की कमी से जूझ रही है. साथ ही यह एनीमिया के विभिन्न प्रकार में उपयोगी होता है. हमारी बॉडी में आयरन हीमोग्लोबिन पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाने के लिए जिम्मेदार रेड सेल्‍स में प्रोटीन का संश्लेषण करने के लिए आवश्यक होता है.

2) पेट संबंधी प्रॉब्लम्स का रामबाण-: लेमन ग्रास में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पेट संबंधी बीमारियों से बचाते है. जी हां यह फ्री रेडिकल को अपने में लेकर स्थिर कर देता है. जिससे अपच, कब्ज, दस्त, पेट की सूजन, पेट फूलना, पेट में ऐंठन, उल्टी आदि पेट संबंधी समस्याओं को दूर करने में हेल्प मिलती है.

3) बुखार, कफ और सर्दी में फायदेमंद-: इसे चाय के साथ लेना चाहिए, क्योंकि यह बुखार, कफ और सर्दी में फायदा करता है. इसमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है, इसलिए यह बॉडी के कुछ मूलभूत तत्वों को बैलेंस करता है. ताजे या सूखे दोनों तरह के लेमन ग्रास का प्रयोग किया जा सकता है. इसका तना हरी प्याज की तरह होता है. जब इसे टुकड़ों में काटा जता है, तब इसकी खट्टी सुगंध फैलती है. इसका फ्लेवर नींबू की तरह होता है. लेमन ग्रास की जगह इसकी छाल का भी प्रयोग किया जा सकता है, पर उसकी सुगंध उतनी ताजी नहीं रहती.

4) बच्चों की एडीएचडी समस्या फायदेमंद-: 1998 में हुए एक अध्ययन के अनुसार, एडीएचडी से पी‍डि़त बच्चों को नींद आसानी से नहीं आती. ऐसे बच्चों के लिए लेमन ग्रास से बनी हर्बल टी काफी फायदेमंद होती है. इसमें मौजूद पुदीना, कैमोमाइल या लेमन ग्रास और अन्य ऐसे ही कई हर्ब मसल्स को शांत करने में हेल्प करते हैं.

5) कैंसर का रामबाण इलाज-: नींबू घास में कैंसर सहित कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने वाले गुण होते है. इसमें अद्भुत एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते है. जिसके कारण मानव शरीर में कई गंभीर रोगों के लिए जिम्मेदार अणुओं के स्वरूप में परिवर्तन लाकर उन्हें न सिर्फ स्थिर किया जाता है बल्कि कुछ मामलों में यह बैक्‍टीरिया को अपने में समाहित भी कर लेती है.

6) एंटी इंफ्लेमेंटरी और एंटी-सेप्टिक गुणों से भरपूर-: एंटी इंफ्लेमेंटरी और एंटी सेप्टिक गुणों के कारण, लेमनग्रास अर्थराइटिस, गाउट और सूजन के इलाज के लिए बहुत ही मूल्यवान औषधि है, इसलिए अगर आप इन समस्याएं परेशान रहती हैं तो रोजाना लेमन ग्रास के जूस या इससे बनी हर्बल चाय का सेवन करें.

7) बॉडी डिटॉक्‍स करें-: लेमनग्रास में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, एंटीसेप्टिक और मूत्रवर्धक गुणों के कारण यह बॉडी को डिटॉक्स करने वाला बहुत ही अच्छा हर्ब है. यह लीवर, किडनी, ब्लैडर और अग्याशय को साफ करने और ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में मदद करता है. और मूत्रवर्धक प्रभाव के कारण यह टॉक्सिन को बाहर ले जाने में मदद करता है.

8) दिमाग तेज करें-: अगर आप चाहती हैं कि आपका और आपके बच्चे का ब्रेन तेज हो तो लेमन ग्रास का सेवन करें. मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और फोलेट नर्वस सिस्टम की हेल्दी तरीके से काम करने वाला आवश्यक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है. वे एकाग्रता, स्मृति और ब्रेन की क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करता है.

एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एंटी-सेप्टिक और विटामिन सी जैसे औषधीय गुणों से भरपूर लेमनग्रास कई रोगों से लड़ने की क्षमता होती है. यह बॉडी को डिटॉक्स करने, दर्द दूर करने, खांसी जुकाम और थकावट व तनाव को दूर करने में आपकी मदद करती है. तो देर किस बात की आइए आज ही इसे अपनी डाइट में शामिल करें.