शिवराज के बेटे पर आरोप लगाकर पलटे राहुल, बोले बीजेपी शासित राज्यो में इतने स्कैम हैं कि मैं कन्फ्यूज हो गया

पनामा पेपर्स लीक मामले में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय पर आरोप लगाकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पलट गए हैं. राहुल ने माना कि उन्होंने पनामा पेपर केस में गलती से शिवराज सिंह के बेटे कार्तिकेय का नाम ले लिया. मध्य प्रदेश में ही पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान राहुल ने कहा कि मध्य प्रदेश और बीजेपी शासित राज्यों में इतने घोटाले हुए हैं कि वह कन्फ्यूज हो गए थे.

उन्होंने कहा कि पनामा पेपर्स लीक मामले में शिवराज सिंह के बेटे नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के बेटे का नाम है. आपको बतां दे कि राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि ‘कुछ धनी लोगों के काले धन को सफेद करने के लिए 2016 में नोटबंदी की गई थी. मध्यप्रदेश में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भी निशाना साधते हुए आरोप लगाया था कि उनके शासनकाल में राज्य में घोर भ्रष्टाचार हुए हैं.

उन्होंने दावा किया कि एक मुख्यमंत्री ‘मामाजी’ के बेटे का नाम पनामा पेपर्स में आया था लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई. वहीं इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देर रात गांधी के खिलाफ मानहानि का दावा करने की घोषणा कर दी थी.

चौहान ने ट्वीट के जरिए कहा ‘पिछले कई वर्षों से कांग्रेस मेरे और मेरे परिवार के ऊपर अनर्गल आरोप लगा रही है. हम सबका सम्मान करते हुए मर्यादा रखते हैं, लेकिन आज तो राहुल गांधी ने मेरे बेटे कार्तिकेय का नाम पनामा पेपर्स में आया है, कहकर सारी हदें पार कर दीं.

कल ही हम उन पर मानहानि का दावा कर रहे हैं. चौहान के पुत्र कार्तिकेय ने भी ट्वीट कर कहा मंगलवार को राहुल गांधी जी ने मुझे पनामा पेपर्स में संलिप्त होने का झूठा बयान दिया है. मैं व्यथित हूं कि बचपने की आड़ में सार्वजनिक मंच से मेरी व मेरे परिवार की प्रतिष्ठा खंडित की गयी है. यदि 48 घंटे में उन्होंने माफी नहीं मांगी तो मैं उन पर कठोरतम कानूनी कार्रवाई के लिए बाध्य हो जाऊंगा.