जानिए तुलसी के चमत्कारी औषधीय गुण

भारतीय संस्कृति में तुलसी को पूजनीय माना जाता है. धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है. आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है. तुलसी ऐसी औषधि है. जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है. इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खॉसी, दंत रोग और श्वास सम्बंधी बीमारियों में भी एक कारगर औषधि है.

तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना महत्व है. आमतौर पर घरों में दो तरह की तुलसी देखने को मिलती है. एक जिसकी पत्त‍ियों का रंग थोड़ा गहरा होता है औ दूसरा जिसकी पत्तियों का रंग हल्का होता है. तुलसी की सामान्यतः सात प्रजातियाँ पाई जाती है.

तुलसी के फायदे

1. सर्दी खांसी: अगर आपको सर्दी या फिर हल्का बुखार है तो मिश्री, काली मिर्च और तुलसी के पत्ते को पानी में अच्छी तरह से पकाकर उसका काढ़ा पीने से फायदा होता है. आप चाहें तो इसकी गोलियां बनाकर भी खा सकते है.

2. जुकाम: तुलसी के पत्ते, अदरक और काली मिर्च को मिला कर बनाई हुई चाय पीने से शीघ्र लाभ मिलता है.

3. गले में खराश: तुलसी के पत्तों को पानी में उबाल कर पीने से गले की खराश दूर हो जाती है.

4. सिर दर्द: तुलसी के पत्तों का लेप सिर पर लगाने से सिर दर्द में आराम मिलता है.

5. त्वचा रोग: तुलसी के पौधों के नीचे की मिट्टी को शरीर पर मलने से त्वचा रोगों में लाभ मिलता है.

6. दांत दर्द: तुलसी के पत्ते और काली मिच पीस कर गोली बना ले. इसे दर्द वाले दांत के नीचे दबाने से आराम मिलता है.

7. मुंह के छाले: तुलसी के पत्ते चबाने से मुंह के छाले दूर होते है.

8. मुंह की दुर्गंध: तुलसी के पत्ते को शहद के साथ खाने से मुंह से दुर्गंध नहीं आती.

9. वातावरण स्वच्छ: वैज्ञानिक शोध के अनुसार तुलसी का पौधा वातावरण को भी स्वच्छ रखता है.