यूपी विधान परिषद सभापति के बेटे की मौत मामले आया नया मोड़, बेटे की हत्या में मां गिरफ्तार

रविवार कोउत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के छोटे बेटे अभिजीत उर्फ विवेक की मौत मामले में एक नया मोड़ सामने आया है. पुलिस के मुताबिक हत्या अभिजीत की मां मीरा ने की थी. पुलिस पूछताछ में मीरा ने यह बात स्वीकार की.

मीरा ने पुलिस को बताया कि अभिजीत अक्सर नशे में आता था. वह घर में अभद्रता करता था. जिस दिन घटना हुई उस दिन भी उसने शराब पी रखी थी. एएसपी पूर्वी सर्वेश कुमार मिश्र ने बताया कि विधान परिषद के सभापति रमेश यादव मूल रूप से एटा के रहने वाले हैं.

इसी के आधार पर पुलिस ने अभिजीत की मां मीरा और भाई अभिषेक से पूछताछ की. देर रात मीरा ने अपने बेटे की हत्या की बात स्वीकार कर ली. एएसपी पूर्वी के अनुसार मीरा का कहना है कि अभिजीत शराब का लती था.
घटना के समय भी दोनों में कहासुनी हुई थी इसके बाद मीरा ने उसे धक्का दे दिया तो उसका सिर दीवार से टकरा गया.शराब के नशे में होने के कारण वह गिर गया। इसके बाद मीरा ने अपने दुपट्टे से उसका गला घोंट दिया. गला दबाने के बाद बने निशान को मिटाने के लिए सोफ्रामाइसिन मरहम भी लगाया गया.

विवेक का शव रविवार को  दारुल शफा के डी ब्लॉक स्थित कमरा नंबर 28 में पाया गया. कमरे में मां और भाई भी मौजूद थे. परिवारीजन दावा कर रहे हैं कि रात में सोते वक्त अभिजीत के सीने में तेज दर्द था. इसके बाद वह सो गया और सुबह वह बिस्तर पर मृत पाया गया. पुलिस ने मौत को संदिग्ध बताया है.

विधान परिषद के सभापति रमेश यादव ने दो शादियां की हैं. पहली पत्नी प्रेमा देवी है जो एटा जिले में रहती हैं. उनका बेटा आशीष यादव पूर्व में एटा सदर से विधायक भी रह चुका है. दूसरी पत्नी मीरा यादव हैं जो राजधानी के दारुल शफा स्थित बी ब्लाक के कमरा नंबर 137 में अपने दो बेटों अभिषेक यादव उर्फ लक्की व छोटे बेटे विवेक यादव उर्फ अभिजीत यादव उर्फ विक्की रहती हैं.

रविवार सुबह विवेक उर्फ अभिजीत अपने बिस्तर पर मृत अवस्था में पड़ा मिला. परिजनों का कहना है कि विवेक शनिवार रात करीब 11 बजे घर आया था. तब उसने सीने में दर्द की जानकारी मां को दी थी. मां ने सीने में मालिश कर उसे सुला दिया था. सुबह जब काफी देर तक अभिजीत नहीं उठा तो मां उसे उठाने पहुंची. शरीर में कोई हरकत न होती देख भाई को भी बुलाया. भाई ने विवेक की नब्ज जांची तो पता चला उसकी मौत हो चुकी थी.

सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौत को संदिग्ध बताया है, लेकिन परिवार की ओर से कोई शिकायत दर्ज न कराने पर शव को परिवार के हवाले कर दिया. इंस्पेक्टर हजरतगंज राधारमण सिंह ने बताया कि विवेक दारुल शिफा के बी ब्लॉक के कमरा नंबर 137 में रहता था. शनिवार रात खाना खाने के बाद वह मां और भाई के साथ कमरे में सोया था. अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद उसकी मौत हो गई.

परिवार ने किसी पर कोई आरोप नहीं लगाया है. पुलिस का कहना है कि परिवार की तरफ से कोई तहरीर भी नहीं दी गई है. अगर कोई कार्यवाही परिवार चाहेगा तो जरूर होगी. माना जा रहा है कि विवेक की मौत हार्ट अटैक के चलते हुई है.

Lucknow: Police have detained mother and elder brother of Abhishek Yadav who was found dead at his residence in Hazratganj yesterday. Abhijeet Yadav is the son of Uttar Pradesh Legislative Council Chairman Ramesh Yadav. pic.twitter.com/948LnjQ9zQ

— ANI UP (@ANINewsUP) October 22, 2018