कांग्रेस ने बैंक धोखाधड़ी के लिए जेटली को बरखास्त करने की मांग की

कांग्रेस ने 90 हजार करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी और विजय माल्या जैसे धोखेबाजों को देश से भागने को इजाजत देने के लिए सोमवार को केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली को बरखास्त करने की मांग की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जेटली पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा कि वर्तमान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार के अंतर्गत अभूतपूर्व 19 हजार बैंक धोखाधड़ी के मामले दर्ज हुए हैं, जिसमें 90 हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई है.

उन्होंने कहा, “उनकी देखरेख में कम से कम 23 बैंक धोखेबाजों ने देश को 53 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का चूना लगाने के बाद भारत छोड़ दिया.”

पायलट ने यहां मीडिया को बताया, “विजय माल्या, ललित मोदी, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और अन्य के सफलतापूर्वक भाग निकल जाने से स्पष्ट होता है कि मोदी सरकार जनता के पैसे की चौकीदार नहीं है, बल्कि एक ट्रैवल एजेंसी है, जो जानबूझकर बैंक धोखेबाजों को धोखेबाजी करने, लूटने और विदेश भागने को आसान बनाती है.”

उन्होंने कहा, “मोदी और जेटली अब ज्यादा देर चुप नहीं रह सकते, वे अपनी खुद की गलितयों के लिए विपक्ष पर अंगुली नहीं उठा सकते. इस सरकार में व्यापक रूप से भ्रष्टाचार हुआ है, चाहे वह राफेल सौदा हो या करोड़ों रुपये का एनपीए हो, या फिर माल्या, ललित मोदी, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का देश से भागना.”

पायलट ने कहा, “ये वे लोग (मोदी और जेटली) हैं, जिन्होंने धोखेबाजों की औपचारिक रूप से मदद की, उन्हें कानूनी रूप से सुरक्षित किया और उन्हें बचने व भागने के लिए राजनीतिक सुरक्षा मुहैया कराई.”

उन्होंने जेटली को तुरंत बरखास्त करने और उनकी कथित सांठ-गांठ, मिलीभगत और हित संघर्ष की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की.