विजय हजारे ट्रॉफी : मुंबई तीसरी बार बना चैम्पियन

आदित्य तारे (71) और सिद्धेश लाड (48) के बेहतरीन पारियों की मदद से मुंबई ने शनिवार को दिल्ली को चार विकेट से हराकर विजय हजारे ट्रॉफी क्रिकेट टूर्नामेंट का खिताब तीसरी बार अपने नाम कर लिया. मुंबई ने 2003-2004 और 2006-2007 में भी यह खिताब जीता था. वहीं, दिल्ली का दूसरी बार यह खिताब जीतने का सपना टूट गया.

मुंबई ने यहां एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और दिल्ली को 45.4 ओवर में 177 रन पर रोक दिया. मुंबई ने इस लक्ष्य को 35 ओवर में छह विकेट खोकर हासिल कर लिया. मुंबई की पूरे टूर्नामेंट में अपराजित रही.

दिल्ली से मिले 178 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई की शुरुआत भी खराब रही और उसने 40 रन के अंदर ही अपने शीर्ष बल्लेबाजों के विकेट गंवा दिए. इसके बाद तारे और लाड ने पांचवें विकेट के लिए 105 रन की शतकीय साझेदारी कर मुंबई को जीत की मंजिल तक पहुंचा दिया.

तारे ने 89 गेंदों पर 13 चौके और एक छक्का लगाया जबकि लाड ने 68 गेंदों पर चार चौके और दो छक्के जड़े. तारे को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला. शिवम दुबे ने 12 गेंदों पर नाबाद 19 रन और अजिंक्य रहाणे ने 10 रनों का योगदान दिया.

दिल्ली के लिए नवदीप सैनी ने 53 रन देकर सर्वाधिक तीन विकेट हासिल किए. इसके अलावा कुलवंत खेजरोलिया, मनन शर्मा और ललित यादव को एक-एक विकेट मिले.

इससे पहले, दिल्ली की टीम नियमित अंतराल पर विकेट गंवाने के कारण 45.4 ओवर में 177 रन तक ही पहुंच सकी. दिल्ली के लिए हिम्मत सिंह ने 41, ध्रुव शौरी ने 31, सुबोथ भाटी ने 25 और पवन नेगी ने 21 रन बनाए.

मुंबई के लिए धवल कुलकर्णी और शिवम दुबे ने तीन-तीन तथा तुषार देशपांडे ने दो और शम्स मुलानी ने एक विकेट हासिल किए.